उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर कांग्रेस का लुभावना घोषणा पत्र

 एक लाख नौकरियां, मुख्यमंत्री लोकायुक्त के दायरे में

लखनऊ, 31 जनवरी. यूपी विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने आज अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है. मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल ने घोषणा पत्र जारी करने का ऐलान करते हुए कहा कि प्रदेश में अगर कांग्रेस की सरकार बनी तो अल्पसंख्यकों को आबादी के हिसाब से आरक्षण दिया जाएगा.

अति पिछड़ों के लिए उप-कोटा की व्यवस्था होगी. इसके अलावा किसानों को 6 फीसदी की ब्याज दर पर कर्ज देने का कांग्रेस ने घोषणा पत्र में ऐलान किया है. सिब्बल ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में एक लाख नियुक्तियां करने का लक्ष्य पार्टी ने रखा है.  पंचायत चुनावों में महिलाओं को 50 प्रतिशत आरक्षण देने की भी बात घोषणा पत्र में की गई है. प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव कराए जाएंगे. उर्दू को प्रदेश की दूसरी राजभाषा का दर्जा दिया जाएगा. सिब्बल ने कहा कि प्रदेश में भ्रष्टाचार से निपटने के लिए सीएम को लोकायुक्त के दायरे में लाया जाएगा. मनरेगा घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की बात भी कांग्रेस के इस घोषणा पत्र में कही गई है. ये घोषणा पत्र इलाहाबाद, कानपुर, आगरा, गोरखपुर, लखनऊ, शाहजहांपुर, सहारनपुर, झांसी और बरेली से एक साथ जारी किया गया है. घोषणा पत्र के जारी होने के मौके पर केन्द्रीय मंत्री कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद, जयराम रमेश, गुलाब नबी आज़ाद, सुशील कुमार शिंदे समेत पार्टी के महासचिव दिग्विजय सिंह, जनार्दन और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आदि अलग-अलग स्थानों पर मौजूद रहे.

बहुसंख्यक पिछड़ों को भी आरक्षण!

फर्रुखाबाद. केंद्रीय कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि जनगणना की नवीनतम रिपोर्ट आने के बाद सरकार बहुसंख्यक वर्ग के पिछड़ों को भी आरक्षण देने के प्रश्न पर नए सिरे से विचार करेगी.

खुर्शीद ने संवाददाताओं से कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने अल्पसंख्यक पिछड़ों की जो व्यवस्था दी है उसी के अनुसार आरक्षण मिलेगा और पिछड़ापन ही इसका एकमात्र आधार होगा. उन्होंने कहा कि अभी उत्तर प्रदेश में शिक्षा का अधिकार लागू नहीं हुआ है. इसलिए मदरसों और वैदिक पाठशालाओं को फिक्र करने की कोई जरुरत नहीं है. इसी तरह डायरेक्ट टैक्स कोड़ प्रस्तावित अवश्य है पर यह अपने में भ्रम है कि उसके जरिए धार्मिक संस्थाओं पर कर लगाया जाएगा. खुर्शीद ने मौलाना बुखारी द्वारा समाजवादी पार्टी के पक्ष में वोट करने की अपील को बेमानी बताते हुए कहा कि इस तरह के हथकंडों से कुछ हासिल नहीं होने वाला. मतदाता अब बहुत जागरूक हो गया है. गौरतलब है कि गत दिनों यहा आईनी हुकूक बचाव तहरीक द्वारा आयोजित जलसे के मुख्य अतिथि जिलानी ने केंद्र द्वारा अल्पसंख्यकों के नाम पर मुस्लिम आरक्षण को अनुचित ठहराते हुए कहा था कि सरकार आरक्षण के नाम पर भ्रम फैलाने की चाल चल रही है.

‘धर्म, जाति को बेचकर राजनीति मत करो”

सीतापुर. कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने उत्तर प्रदेश में बेरोजगारी और पिछड़ेपन के लिए 22 वर्षों से सत्तारुढ़ रही गैर कांग्रेसी सरकारों को जिम्मेदार ठहराते हुए मंगलवार को कहा कि इन दलों ने कभी राम को बेचा, कभी जाति बेची तो कभी धर्म बेचा, मगर जनता के बीच नहीं गये और विकास एवं प्रगति की बात नहीं की.

Related Posts: