गृह मंत्री ने किया सड़क का भूमि-पूजन

भोपाल, 21 अप्रैल, तीन करोड़ रुपये से बनेगी डिपो चौराहा से भदभदा तक डेढ़ किलोमीटर फोर-लेन सड़क. शुक्रवार को जल-संसाधन एवं पर्यावरण मंत्री तथा जिला प्रभारी मंत्री जयंत मलैया और गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने सड़क को चौड़ा करने के काम का भूमि-पूजन किया.मलैया ने कहा कि शहर के पार्कों को भी विकसित किया जाएगा.

जल-संसाधन मंत्री मलैया ने कहा कि भोपाल शहर में गत वर्ष 17 सड़कें बनवायी गयीं. शेष सड़कों का निर्माण इस वर्ष करवाया जाएगा. उन्होंने बताया कि प्रदेश का सिंचाई रकबा 9 लाख से बढ़कर साढ़े सोलह लाख हेक्टेयर हो गया है. इसका लाभ सीधे किसानों को मिला है. इस वर्ष लगभग 80 लाख टन गेहूँ की पैदावार हुई है. अब प्रदेश पंजाब के समकक्ष पहुँच रहा है. पंजाब में गेहूँ का उत्पादन 110 लाख टन होता है. सामाजिक सरोकार- मलैया ने कहा कि हमारी सरकार विकास कार्यों के साथ ही सामाजिक सरोकार से भी जुड़ी है. लाड़ली लक्ष्मी योजना से लेकर बुजुर्गों के लिए घोषित तीर्थ-यात्रा योजना तक सभी योजनाएँ सभी वर्गों के लिये बनाई गई हैं. इसमें जाति, धर्म और बीपीएल की सीमा नहीं रखी गई है.

मलैया ने बताया कि भोपाल में हाईराइज बिल्डिंग में आग की दुर्घटना से बचाव के लिये मशीन खरीदी जायेगी. भोपाल में शौर्य-स्मारक का निर्माण हो रहा है. उन्होंने गुणवत्तापूर्ण कार्य करवाने और समय-सीमा का ध्यान रखने के निर्देश अधिकारियों को दिये. गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता ने शहर के पार्क विकसित करवाने और फोर-लेन सड़क का विस्तार वन विहार तक करवाने की माँग की. पर्यावरण मंत्री ने इस पर सहमति व्यक्त करते हुए अतिशीघ्र कार्यवाही के निर्देश दिये. गुप्ता ने सरकार की उपलब्धियों की चर्चा करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री ने सभी वर्गों की पंचायत बुलाकर उनकी समस्याओं को सुना और उनके कल्याण की योजनाएँ बनाई हैं. समारोह में जन-प्रतिनिधि, नागरिक और विभागीय अधिकारी उपस्थित थे.

पहले दिन 48 वकीलों ने डाले टेण्डर वोट

बार एसोसियेशन के तत्वाधान में होने वाले चुनाव में आज पहले दिन 48 वकीलों ने टेण्डर वोट डाले हैं. मुख्य चुनाव अधिकारी उमेश निगम ने टेण्डर वोटिंग को दो दिन और बढ़ा दी है. चुनाव में मतदान 26 तारीख को सुबह साढ़े 8 बजे से साढ़े 5 बजे तक संपन्न होगा. इस बार 3987 मतदाता वकील अपने मतों का प्रयोग करेंगे. टेण्डर वोटिंग शनिवार और सोमवार को भी होगी. टेण्डर वोट डालने जा रहे मतदाता वकीलों को मतदान केंद्र के बाहर ही उम्मीदवारों ने घेर लिया था और अपने पक्ष में वोट डालने की गुहार लगा रहे थे. जैसे-तैसे वे उम्मीदवारों से पीछा छुड़ाकर मतदान केंद्र तक पहुंचे.

Related Posts: