नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह की राज्य सरकर से मांग

भोपाल, 30 सितंबर. नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने मध्यप्रदेश में स्वास्थ्य सेवाएं चौपट होने का आरोप लगाते हुये कहा है कि सीधी जिला मुख्यालय में चिकित्सक की अनुपस्थिति और समय पर इलाज न मिलने से दो लोगों की मृत्यु हो गई.

उन्होंने कहा कि सरकारी अस्पतालों में लोगों को चिकित्सा सुविधा नहीं मिल रही है और वे स्वाइन फ्लू सहित फैल रही महामारियों के शिकार हो रहे हैं. ङ्क्षसह ने राज्य सरकार से सीधी जिला अस्पताल में इलाज के अभाव में हुई मृत्यु की उच्च स्तरीय जांच कराने, संबंधित चिकित्सक को तत्काल निलंबित कर उस पर आपराधिक प्रकरण दर्ज करने और मृतक के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की मांग की है.

नेता प्रतिक्ष अजय सिंह ने कहा कि सरकारी अस्पतालों के कायाकल्प करने का दावा करने वाले स्वास्थ्य मंत्री के बड़बोल की रोज कलई खुल रही है. उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू के इलाज का इंतजाम न होने और सरकार की लापरवाही से कई निर्दोष लोगों की मौत हो गई. प्रदेश में ग्रामीण इलाकों विशेषकर आदिवासी क्षेत्रों में मौसमी महामारी की रोकथाम न होने से कई लोगों की मृत्यु हो चुकी है और कई लोग जीवन-मृत्यु के बीच संघर्ष कर रहे हैं. ङ्क्षसह ने कहा कि राज्य सरकार अपने अनिवार्य दायित्वों को भूलकर उत्सव फोबिया की शिकार हो गई है. प्रदेश में आम नागरिक स्वास्थ्य, शिक्षा एवं पीने के पानी की समस्या से जूझ रहा है और सरकार अपनी पीठ थपथपाने में लगी है.

सिंह ने बताया कि सीधी जिले के ग्राम पडऱा के एक सैप्टिक टैंक से गैस रिसाव होने से तीन लोग बुरी तरह प्रभावित हुये. इन तीनों को तत्काल जिला अस्पताल सीधी ले जाया गया जहां पर चिकित्सक ही नहीं थे. इसके कारण प्रभवितों को समय पर इलाज नहीं मिल पाया जिसके कारण दो लोगों की अस्पताल में मृत्यु हो गई जबकि एक महिला गंभीर रूप से अस्पताल में भर्ती है. उन्होंने कहा कि इसके लिये संबंधित चिकित्सक पर आपराधिक प्रकरण दर्ज होना चाहिये. उन्होंने कहा कि चिकित्सक को बचाने के प्रयास शुरू हो गये हैं क्योंकि वे भाजपा विधायक के दामाद हैं. उसे तत्काल निलंबित किया जाना चाहिये. सिंह ने कहा कि पिछले दिनों राजधानी के सुल्ताननिया अस्पताल में एक शिशु को कुत्तों द्वारा नोचने, शिवपुरी में एक मृतक के शरीर को अस्पताल में कुत्तों द्वारा नोचकर खा जाने के बाद सीधी के जिला अस्पताल में इलाज न मिलने पर हुई दो लोगों की मृत्यु भाजपा सरकार के लिये शर्मनाक है.

Related Posts: