इंटक का प्रतिनिधिमंडल डायरेक्टर एम.के. दुबे से मिला

भोपाल, 17 अप्रैल.नभासं. भेल कारखाने के प्रशासनिक भवन पर सोमवार को चेयरमैन कक्ष में भेल भोपाल का एक प्रतिनिधिमंडल यूनियन के अध्यक्ष आर.डी. त्रिपाठी के नेतृत्व में डायरेक्टर एम.के. दुबे का पुष्प एवं गुलदस्ता से स्वगत किया. सर्वप्रथम डायरेक्टर एम.के. दुबे ने भेल भोपाल के कमियों को उत्पादन लक्ष्य से अधिक एवं मुनाफा प्राप्त के लिए भेल कर्मियों को बधाई दिया साथ ही पूरे बीएचईएल का परफारमेंस उत्साहवर्धक रहा. इस बात दुबे ने प्रसन्नता व्यक्त की.

इंटक के अध्यक्ष आर.डी. त्रिपाठी ने डायरेक्टर एम.के. दुबे से कहा कि भेल भोपाल के समस्त  प्रोडक्ट राष्टï्रीय व अन्तर्राष्टï्रीय स्तर पर प्रतिस्पर्धात्मक है इसलिये देश की आवश्यकता नुसार ऐसे प्रोडक्ट बनाने जाये. जिनकी औद्योगिक बाजारों में अधिक मांग है. अत: बीएचईएल भोपाल में मेट्रो रेल जैसे उत्पाद बनाने की पूरी व्यवस्था का जाये. जिससे बीएचईएल भोपाल दीर्घजीवी उद्योग बनाने रहे. भेल भोपाल एवं झांसी के कर्मियों में मेट्रो रेल एवं कोच बनाने की पूर्ण क्षमता विद्यमान है.

डायरेक्टर एम.के. दुबे ने प्रतिनिधि मंडल से कहा कि बीएचईएल वर्तमान समय में उत्पादन के तीन फ्रन्ट पर प्रोडक्ट बनाने की योजना तैयार किया है जिसमें ट्रान्सर्पोटेशन ट्रांसमिशन एवं डिफेंस. ट्रान्सपोर्टेशन में ट्रेक्शन मोटर, इलेक्ट्रिकल मशीन भेल भोपाल में बहुत अच्छा कार्य किया है साथ ही रेलवे से भेल के संबंध भी सौहाद्र्रपूर्ण हो रहे है. इसीलिये रेलवे ने धानकुनी एवं काचरपैरा में मेट्रो का कारखाना लगाने का प्रस्ताव भेल को दिया है. मेट्रो में भी प्रतिस्पर्धा के लिये बम्बार्डिया ने बड़ोदरा में अपना उद्योग लगाया है जो कार्य करने लगा है. ट्रान्सपोर्टेशन में बीएचईएल के पास कार्य करने की पूरी क्षमता है. जबकि ट्रान्समिशन में कोल की कमी, पर्यावरण की समस्या, जमीन के झगड़े एवं इलेक्ट्रीसिटी बोर्ड की उदासीनता की वजह से पावर प्लान्ट लगाने में भेल को अनेक बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है.

वहीं डिफेन्स नेवी में बीएचईएल बहुत अच्छा कार्य कर रहा है. भेल भोपाल में हाइड्रो का बहुत सारा कार्य भूटान से मिला है. आर.डी. त्रिपाठी ने आग्रह किया है कि भेल में बनने वाले अधिकांश उत्पाद आपके विभाग के अन्तर्गत आते है इसलिए भेल भोपाल में युगान्त्कारी बढ़ावा देने की आवश्यकता है. डायरेक्टर एम.के. दुबे ने भरोसा दिलाते हुए कहाकि किसी भी तरह से भेल भोपाल की प्रगति में कोई बाधा नहीं आयेगी. भेल भोपाल के कर्मियों में कार्य करने की पूर्ण क्षमता है उन्हें सिर्फ तीन बाते ध्यान देने की आवश्यकता है कस्टमर सेटिसफेक्षन समय पर आपूर्ति  एवं गुणवत्तायुक्त प्रोडक्ट पर विशेष ध्यान देना है साथ ही भेल भोपाल के कार्यपालक निदेशक एस.एस. गुप्ता के कार्यो का सराहना करते हुए कहा गुप्ता एक कर्मठ एवं ईमानदार व्यक्तित्व के धनी है. तथा उनमें इस कारखाने का आगे ले जाने के लिये ललक एवं उत्साह है. एम.के. दुबे लवरेज से पूर्ण भरे हुये बीएचईएल को कमांडिंग हाईट पर ले जाने के लिये लौह संकल्पित थे. इस प्रतिनिधि मंडल में आर.के. हुरडे, गौतम मोरे, व्ही.एस. राठौर, राजेश शुक्ला, सी.आर. नामदेव, दीपक गुप्ता उपस्थित थे.

Related Posts: