भोपाल, 11 जून नभासं. राजधानी स्थित भेल ईकाई के भ्रमण करनें आए भेल डायरेक्टर वित्त पी के वाजपेयी ने इकाई के अधिकारियों की बैठक ली. जिसमें वाजपेयी ने मौजूदा दौर में व्यापारिक परिपेक्ष्य में विश्व आर्थिक मंदी को गहन चिंता जताई. साथ ही इस मंदी का असर व्यापार भी पड़ रहा है.

इस मंदी से भेल अछूता नहीं है. मौजूदा समय भेल के पास आर्डर की कमी है. उन्होंने उपस्थित अधिकारियों को चेताते हुए कहा कि आगामी समय एवं दौर में भेल को कड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा. क्योकि कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करने के लिये अपनी कार्य पद्घति में बदलाव लायें. उन्होंने कहा कि मौजूदा दौर में भेल की आर्डर बुक की स्थिति मजबूत नहीं है. साथ ही कंपनी की नगदी की स्थिति भी संतोष जनक नहीं है. जो कि एक चिंता का विषय है. उन्होंने शेष राशि तथा ग्राहकों से उधारी वसूल करनें पर काफी जोर दिया. और कहा कि नगदी की उपलब्धता कंपनी के विकास के लिये जरूरी है.

साथ ही आपूर्ती के संबंध में कहा कि प्रतिष्पर्धा को ध्यान में रखते हुए समय सीमा के अंदर कम लागत वाले गुणवत्ता पूर्ण उत्पादों को ग्राहक की अवश्यकता अनुरूप तैयार कर मुहैया कराने की दिशा में काम कारनें की विशेष आवश्यकता है.  इस अवसर पर कार्यपालक निदेशक एस गुप्ता ने कहा कि भेल की उक्त ईकाई के लिये द्वितीय चरण में आर्डर बुक करनें के लिये हर पहलुओं को ध्यान में रखते हुए रणनीति के तहत प्रयास जारी है. उन्होंने कहा कि अब उत्पाद के साथ कैश वसूली पर भी विशेष ध्यान दिया जायेगा. इधर इस बैठक में ईडी एस.के. गुप्ता, जीएमआई एम.के. शाक्य और जीएम जीडी वर्मा उपस्थित थे.

Related Posts: