ध्रुपद पर्व का तीसरा और आखिरी दिन

भोपाल,6 जुलाई, नभासं. धु्रपद पर्व में संगीत के सुर-ताल की नायाब पेशकश शुक्रवार की महफिल को एक नए मुकाम पर ले गई. सात सुरो की भीनी महक से गुलजार चार दिवसीय धु्रपद पर्व का तीसरा दिन राग-रागनियों के नाम रहा. हिंदुस्तानी षास्त्रीय संगीत का गोमुख मानी जाने वाली धु्रपद षैली के गायन-वादन में नई पीढी की गायिकाओं ने भी धु्रपद के सुरो को पूरी तल्लीनता से साधा.

दूरदर्र्शन केन्द्र, भोपाल द्वारा आयोजित महिला कलाकारों पर केन्द्रित ध्रुपद पर्व के तीसरे दिन की प्रस्तुति का प्रारम्भ मुंबई की कलाकार सलमा घोष के गायन से हुआ. इन्होंने राग कम्बोजी को चौताल में प्रस्तुत किया जिसके बोल थे, ”ए महादेव ए शंकर जटाजूट त्रिनेत्र नीलकंठ महादेव”. इनके साथ पखावज पर संगत औरंगाबाद के उद्धवराव षिन्दे आपेगांवकर ने दी. कार्यक्रम की दूसरी प्रस्तुति भोपाल की कलाकार पद्मजा विश्वरूप के विचित्र वीणा वादन से हुई, इन्होंने विचित्र वीणा पर अपनी तालीम और रियाज का परिचय दिया. इन्होंने राग भोपाली में आलाप्, जोड़, झाला और सूल ताल में गत बजाकर दर्र्शकों/श्रोताओं का मन मोह लिया.

पखावज पर संगत दिल्ली के ऋषि शंकर उपाध्याय ने दी. दूरदर्शन केंद्र के स्टूडियो में गायन-वादन का लुत्फ लेने आए श्रोताओं ने भी बंदिशों के साथ ताल पर ताल देकर अपनी दिलचस्पी का इजहार किया. महफि ल की तीसरी पायदान पर मुम्बई की कलाकार अपर्णा शास्त्री ने गायन की प्रस्तुति दी. उन्होंने अपने ध्रुपद गायन में सादरा ताल में राग बागेश्वरी प्रस्तुत किया जिसके बोल थे, ”धन दुल्हों, धन ए मुहूरत, धन आज सजन लगन धरी माई,” पखावज पर संगत पुणे के ध्यानेश्वर देशमुख ने दी. कार्यक्रम को गति देते हुए चौथी प्रस्तुति में भोपाल की ध्रुपद गायिका रूपाली जैन पाण्डेय ने ताल धमार में राग श्याम कल्याण पेश किया जिसके बोल थे, ”आज ब्रज में उड़त गुलाल, होरी खेले नन्द के लाल,” इनके साथ पखावज पर वाराणसी के अंकित पारिख ने संगत दी. ध्रुपद कार्यक्रम के अंतिम चरण में कोलकाता की काबेरी केर ने अपने गायन में मौसम के मिजाज को देखते हुए राग मिया मल्हार पेष किया जिसके बोल थे ”आई है घटा उमड़-घुमड़” इनके साथ पखावज पर संगत भोपाल के अखिलेष गुन्देचा ने दी. धु्रपद पर्व की भूमिका को उदघोषक विनय उपाध्याय ने परंपरा के संदर्भों के साथ प्रस्तुत किया.

Related Posts:

प्रदेश में करोड़ों का होगा गुरु पुष्य नक्षत्र
कमला नेहरू चिकित्सालय में डेन्टल यूनिट
हर खेत को पानी देने में मप्र देश में उदाहरण बनेगा
प्रवीण राष्ट्रपाल के निधन पर राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित
डिजिटल लेनदेन पर शुल्क कम किया जायेगा : जेटली
वक्फ बोर्ड की सम्पत्ति पर अवैध कब्जा करने वाले दो हजार लोगों पर मुकदमे दर्ज : नक...