आतंकी कहने पर देशभर में बवाल

संसद नहीं चलने देंगे:राजनाथ

BJP against Shindeनई दिल्ली, 24 जनवरी. गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के आरएसएस और भाजपा के खिलाफ दिए विवादास्पद बयान के खिलाफ गुरुवार को भाजपा ने देशव्यापी प्रदर्शन किया और शिंदे के पुतले जलाए।

दिल्ली के जंतर-मंतर पर लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज ने कहा कि शिंदे के बेतुके बयान के बाद सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह माफी मांग और तुरंत गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे को बर्खास्त करें। उन्होंने कहा कि भाजपा की इन तीनों मांगों को माने जाने तक यह विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। इस मौके पर भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह समेत कई अन्य वरिष्ठ नेता भी मौजूद थे। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने दिग्विजय सिंह द्वारा हाफिज सईद को सम्मान देने पर उनकी कड़ी आलोचना की।

उन्होंने कहा कि इतने पर भी कांग्रेस की अध्यक्ष सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह खामोशी रहे। राजनाथ धमकी दी है कि शिंदे ने इस्तीफा नहीं दिया तो वह संसद नहीं चलने देंगे। दिल्ली के अलावा लखनऊ, कानपुर, चंडीगढ़, आगरा और पटना समेत देश के सभी बड़े शहरों में यह प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। दिल्ली में जंतर-मंतर पर भाजपा नेताओं और कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ नारेबाजी की और आरोप लगाया कि कांग्रेस अपनी वोट बैंक की घटिया राजनीति के चलते इस तरह के बेबुनियाद बयान दे रही है।

पानीपत में आतंकियों को प्रशिक्षण देने के केंद्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे के आरोपों के विरोध में राष्ट्रव्यापी प्रदर्शन के तहत भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश भर में प्रदर्शन किए और शिंदे का पुतला फूंका। पानीपत, करनाल, अंबाला, कुरुक्षेत्र, जींद समेत विभिन्न जगहों पर कार्यकर्ता सड़क पर उतर आए। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष प्रो. रामबिलास शर्मा ने झज्जर में प्रदर्शन की अगुवाई की। हिमाचल प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं विधानसभा में विपक्ष के नेता प्रेमकुमार धूमल के गृह जिला हमीरपुर के गांधी चौक पर भाजपा कार्यकर्ताओं ने गृह मंत्री का पुतला फूंका। इस अवसर पर जिला भाजपा अध्यक्ष देशराज शर्मा ने कहा कि गृह मंत्री द्वारा भाजपा व संघ को आंतकवाद हितैषी करार देना गलत है। इस बयान के लिए गृहमंत्री को तत्काल पद से इस्तीफा देना चाहिए।

कुछ जगहों पर भाजपा कार्यकर्ताओं को हटाने के लिए पुलिस ने हल्का बल भी प्रयोग किया। गौरतलब है कि शिंदे ने जयपुर में अपने भाषण के दौरान कहा था कि भाजपा और आरएसएस के कैंपों में हिंदू आतंकवाद का बढ़ावा मिल रहा है। इस बयान के बाद से ही भाजपा शिंदे को बिना शर्त माफी मांगने और सरकार से उन्हें तुरंत हटा देने की मांग कर रही है। भाजपा ने कहा है कि वह हिंदुओं का यह अपमान बर्दाश्त नहीं करेगी। भाजपा द्वारा प्रदर्शन के ऐलान के बाद आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर भाजपा के कई बड़े नेता इसमें हिस्सा लेंगे। भाजपा ने शिंदे के बयान के बाद प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से माफी मांगने को कहा है। हालांकि शिंदे के बयान के बाद उठे तूफान को शांत करने के लिए कांग्रेस महासचिव जर्नादन द्विवेदी ने यह तक कहा था कि शिंदे की जुबान फिसल गई थी। लेकिन भाजपा इतने से मानने वाली नहीं दिखाई दे रही है।

मानहानि का मामला दर्ज

गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के भाजपा और आरएसएस को हिंदू आतंकवाद से जोडऩे वाले बयान के लिए उनके खिलाफ दिल्ली की एक अदालत में मानहानि का मामला दर्ज किया गया है। दिल्ली निवासी वीपी कुमार ने अपने वकील मोनिका अरोड़ा के माध्यम से दायर याचिका में कहा कि गृह मंत्री ने समुदायों के बीच नफरत और दुर्भावना फैलाने के मकसद से ‘अपमानजनक’ बयान दिया।

कांग्रेस न की ओलचना

कांग्रेस और सरकार ने गुरुवार को भगवा आतंकवाद पर गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के बयान को लेकर बीजेपी के आंदोलन को अनावश्यक और अनुचित बताते हुए कहा कि अपने अंदरूनी मामलों से मीडिया का ध्यान हटाने के लिए बीजेपी की यह चाल है। केंद्रीय मंत्री वी. नारायण सामी ने कहा, बीजेपी का आंदोलन अनावश्यक और अनुचित है। रेणुका चौधरी ने कहा कि यह बीजेपी की उन परिस्थितियों से ध्यान हटाने की चाल है जिसमें उन्हें अंतिम समय में अपना अध्यक्ष बदलना पड़ा है। शिंदे ने क्या गलत कहा है। वह गृह मंत्री हैं। उनके पास जरूर कुछ तथ्य रहे होंगे। पार्टी पहले ही यह स्पष्ट कर चुकी है कि कांग्रेस का मानना है कि आतंकवाद का कोई धर्म या रंग नहीं होता। तब इस बारे में यह हंगामा क्यों है। वे महज ध्यान बंटाने का प्रयास कर रहे हैं।

 

Related Posts: