नेता प्रतिपक्ष ने कहा फर्जी शिकायत की गई

भोपाल, 9 मई,नभासं.राज्य विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा,प्रदेश महामंत्री नंद कुमार चौहान और कुंवर सिंह के खिलाफ चुरहट मामले में फर्जी दस्तावेज प्रस्तुत करने के मामले में राजधानी भोपाल के एक पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराकर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है.नेता प्रतिपक्ष ने अनुसूचित जाति एवं जनजाति आयोग को भी ज्ञापन सौंपा है जिसमें उक्त नेताओं के खिलाफ मामला दर्ज करने का आग्रह किया गया है.

सिंह ने आज जारी बयान में बताया कि उनके गृह गांव चुरहट में उनके द्वारा आदिवासियों की जमीन पर कब्जा करने के संबंध में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा प्रदेश महामंत्री नंद कुमार सिंह चौहान और कुंवर सिंह ने गत 12 अप्र्रैल को राज्य अनुूसचित जाति जनजाति आयोग में की गई शिकायत में फर्जी दस्तावेज लगाये है. उन्होने बताया कि इन तीनों भाजपा नेताओं द्वारा फर्जी दस्तावेज लगाने पर इनके खिलाफ उनके द्वारा कल भोपाल के श्यामला हिल्स थाने और अनुसूचित जाति जनजाति आयोग में शिकायत दर्ज कराकर प्राथमिकी दर्ज करने की मांग की है. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि उनके खिलाफ आयोग में प्रस्तुत किये गये दस्तावेज पूरी तरह से फर्जी है. उन्होंने कहा कि इस मामले में वे भाजपा प्रदेश अध्यक्ष को काूननी नोटिस देने जा रहे है और उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा भी दायर करेंगे. उन्होनें बताया कि भाजपा नेताओं द्वारा उनके खिलाफ प्रस्तत किये गये फर्जी दस्तावेज उन्होंने   सूचना के अधिकार  के तहत   आयोग से प्राप्त कर लिए है.

नेता प्रतिपक्ष का राज्य सरकार पर फोन टेप कराने का आरोप

नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने आज आरोप लगाया कि मध्यप्रदेश की भाजपा सरकार राजनेताओं और सामाजिक क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के फोन टेप करा रही है. सिंह ने यहां जारी बयान में कहा कि भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष प्रभात झा ने कल कहा था कि भारतीय किसान संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा के रिश्ते कांग्रेस से है और इस बात की पुष्टि श्री शर्मा के काल डिटेल्स से हो चुकी है. श्री सिंह ने कहा कि यह इस बात का प्रमाण है कि राज्य सरकार राजनेताओं और सामाजिक क्षेत्र में काम कर रहे लोगों के टेलीफोन टेप करा रही है.

यह अत्यंक गंभीर एवं आपराधिक मामला है. नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को इस मामले में अविलंब स्पष्टीकरण देना चाहिए कि श्री झा के पास किस हैसियत से श्री शर्मा के काल डिटेल्स आये है और किस गुप्तचर एजेंसी से प्राप्त हुए है. उन्होंने आरोप लगाया कि किसान आंदोलन से बेनकाब हुई भाजपा सरकार अपनी खीज मिटाने के लिए श्री शर्मा का चरित्र हनन करने का प्रयास कर रही है. उन्होंने मुख्यमंत्री से नैतिकता के आधार पर किसानों की उपज को खरीद न पाने की असफलता पर पद से इस्तीफा देने और किसानों से माफी मांगने की मांग को दोहराया.

Related Posts: