पीसीसी की समन्वय समिति की बैठक में फैसला

भोपाल,24 मार्च,नभासं. प्रदेश कांग्रेस समन्वय समिति की बैठक समिति में आज तय किया गया कि जिला और ब्लाक स्तर पर कांग्रेस का सांगठनिक गठन 10 अप्रैल तक पूरा कर लिया जाएगा.

समन्वय समिति की बैठक राष्ट्रीय महासचिव एवं प्रदेश प्रभारी बी.के. हरिप्रसाद की अध्यक्षता में आज पीसीसी कार्यालय में संपन्न हुई. बैठक में समिति के सदस्य प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया, नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह, श्रीनिवास तिवारी, महेन्द्रसिंह कालूखेड़ा, असलम शेर खान, इंद्रजीतकुमार पटेल, एन.पी. प्रजापति तथा श्रीमती गंगाबाई उरेती ने भाग लिया. बैठक मुख्य रूप से प्रदेश के 16 आदिवासी बहुल जिलों की 52 नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों के निकट भविष्य में होने वाले चुनाव की तैयारियों और उनके लिए कांग्रेस प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया पर केंद्रित रही.

उधर,15 अप्रैल को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया के कार्यकाल का प्रथम वर्ष पूर्ण होने जा रहा है. इस अवसर पर प्रदेश कांग्रेस प्रथम कार्यक्रम के अंतर्गत केंद्र सरकार की जनहितकारी ध्वजवाहिनी योजनाओं की निगरानी समिति के चेयरमैनों और सदस्यों की भोपाल में कार्यशाला आयोजित की जाएगी, जिसमें ध्वजवाहिनी योजनाओं के प्रचार-प्रसार और उनके लिए स्वीकृत धनराशि के उपयोग आदि के बारे में प्रशिक्षण दिया जाएगा. द्वितीय कार्यक्रम 15 अप्रैल को ब्लाक स्तर पर धरना प्रदर्शन के रूप में आयोजित होगा,

मध्यप्रदेश में कानून व्यवस्था ध्वस्त

कांग्रेस महासचिव एवं राज्य के पार्टी प्रभारी बी.के.हरिप्रसाद ने आज कहा कि आईपीएस.के एक अधिकारी की खनिज माफियाओं द्वारा हत्या करना इस बात का प्रमाण है कि राज्य में भाजपा शासनकाल में खनिज और रेत माफियाओं के गठजोड के कारण कानून-व्यवस्था की स्थिति न केवल खत्म हो गई है.बल्कि इस पर सरकारी नुमांइदों का नियंत्रण खत्म हो गया है. हरिप्रसाद समन्वय समिति की बैठक के बाद पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे. उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में युवा आईपीएस अधिकारी नरेन्द्र कुमार की हत्या सहित अन्य मामलों की जांच राज्य सरकार को सीबीआई से कराकर वास्तविक अपराधियों को बेनकाब करना चाहिए. उन्होंने राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य में विशेषकर महिलाओं और आदिवासियों पर हो रहे अत्याचार को रोकने में सरकार पूरी तरह से असफल हो गई है.

उन्होंने नेशनल क्राईम रिकार्ड ब्यूरो के आंकडों को हवाला देते हुए कहा कि मध्यप्रदेश अपराध और महिलाओं आदिवासियों और बच्चों पर अत्याचार के मामले में देश में अव्वल नंबर पर आ गया है. उन्होंने कहा कि प्रदेश की कानून व्यवस्था की बिगडी स्थिति के मामले को कांग्रेस विधायकों ने विधानसभा में और कांग्रेस नेताओं ने आम जनता के बीच जोरदार तरीके से उठाया है. प्रसाद ने कहा कि वह यहां प्रदेश कांग्रेस कमेटी की समन्वय समिति की बैठक में भाग लेने आये और बैठक में प्रदेश के 16 जिलों में होने वाले 52 नगरीय निकायों के चुनाव की रणनीति तय की गई. उन्होंने कहा कि इन 16 जिलों के कांग्रेस अध्यक्षों को अपने अपने क्षेत्र में दौरा कर इस चुनाव की तैयारियां करने के निर्देश दिये हैं.

उन्होंने कहा कि हाल ही में प्रदेश से राज्य सभा के लिए निर्विरोध निर्वाचित प्रत्याशी सत्यव्रत चतुर्वेदी का चयन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने किया है और इस मामले में प्रदेश कांग्रेस कमेटी में किसी तरह का असंतोष नही है. प्रदेश कांगेस कमेटी द्वारा मिशन 2013 को ज्यादा महत्व देने के सवाल पर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस 2012 को लक्ष्य बनाकर संगठन को मजबूत कर रही है. इसके बाद मिशन 2013 पर ध्यान दिया जायेगा. प्रसाद ने प्रदेश के संबंध में दिल्ली में कोई समानांतर बैठक नहीं होती है और सभी निर्णय प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा लिये जा रहे है. उन्होंने कहा कि कुछ अपरिहार्य कारणों के चलते प्रदेश कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बैठक में भाग नही ले पा रहे है लेकिन यह नेता बैठक में लिये जाने वाले निर्णय से सहमत है.

Related Posts: