अब इंटरनेट पते के लिए डॉट कॉम, डॉट नेट जैसे गिने चुने डोमेन नाम की सीमा में कैद होने की जरूरत नहीं. जल्द ही भारतीय स्टेट बैंक की वेबसाइट पर जाने के लिए हमें अपने इंटरनेट ब्राउजर पर सिर्फ एसबीआई ही लिखना होगा. या विमानन कम्पनी स्पाइस जेट की वेबसाइट पर जाने के लिए सिर्फ स्पाइसजेट ही लिखना होगा.

इंटरनेट डोमेन नाम का प्रबंधन करने वाली गैर लाभकारी संस्था इंटरनेट कॉरपोरेशन फॉर असाइंड नेम्स एंड नम्बर्स डॉट कॉम, डॉट नेट, डॉट गॉव, डॉट बिज जैसे 22 डोमेन नाम की सीमा समाप्त करेगी और इसकी जगह हजारों डोमेन नाम का रास्ता खोलेगी. इस तरह का डोमेन नाम हासिल करने के लिए आवेदन शुल्क ही सिर्फ 1 लाख 85 हजार डॉलर होगा.

आवेदन की यह प्रक्रिया एक जनवरी से शुरू होकर सिर्फ चार महीनों तक चलेगी. नेट4इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जसजीत शाहनी ने कहा कि यह शुल्क काफी अधिक हो सकता है, लेकिन यह आपको एक अलग पहचान देता है। नेट4इंडिया भारत में डोमेन नाम का पंजीकरण करने वाली कम्पनी है. शाहनी ने कहा कि अभी फिशिंग करना काफी आसान है. कोई भी आदमी एसबीआईक्रेडिटकार्डचेन्नई डॉट कॉम नाम से वेबसाइट पंजीकरण करवाकर उपभोक्ताओं को धोखा दे सकता है। इसकी जगह यदि एसबीआई का डोमेन नाम सिर्फ एसबीआई हो, तो एसबीआई लिखते ही सिर्फ भारतीय स्टेट बैंक की ही वेबसाइट खुलेगी. इससे ग्राहकों को धोखा देना असम्भव हो जाएगा।नए डोमेन नाम की तीन श्रेणियां होंगी. कम्पनी का नाम, साधारण श्रेणी के नाम और स्थान वाचक नाम. भारत जैसे किसी देश का नाम सिर्फ वहां की सरकार को ही दिया जाएगा, बशर्ते वह खरीदना चाहे.

Related Posts: