अवैध वेण्डरों ने गोरखपुर-लोकमान्य ति.एक्सप्रेस को रोका, स्थिति हुई भयावह

भोपाल, 5 अप्रैल, नभासं. गोरखपुर से लोकमान्य तिलक ट. एक्सप्रेस मिसरोद-मंडीदीप के बीच पुल के निकट चेन पुलिंग होने के कारण गाड़ी पुल के ऊपर जा खड़ी हुई. ऐसी स्थिति में यदि कोई यात्री डिब्बे से धोखे से भी उतरता तो वह सीधेे पुल से नीचे जा गिरता और उसकी मौत हो जाती.

प्राप्त जानकारी के अनुसार गाड़ी क्रं. 12541 गोरखपुर से लोकमान्य ति. ट. एक्सप्रेस भोपाल से प्रस्थान करने के बाद जैसे ही मिसरोद- मंडीदीप के बीच पुल के निकट पहुंची ही थी कि अवैध रूप से कार्य कर रहे वेण्डरों द्वारा चेन पुलिंग की गई. मजे की बात यह है कि जिस कोच से चेन पुलिंग की गई थी वह डिब्बा पुल के बीचो-बीच में जाकर रूका. गाड़ी निश्चित रूप से असुरक्षित स्थिति में खड़ी रही. यात्रियों के लिये स्थिति किसी भयावह से कम नहीं थी. चेन पुलिंग कैसे ठीक की जाए इसे लेकर गाड़ी पर चल रहे स्टाफ के लिये समस्या खड़ी हो गई.

इस गाड़ी पर तैनात आरपीएफ पुलिस वेण्डरों को पकडऩे की बजाय इस घटना को मूकदर्शक बन देखती रही. किन्तु किसी भी प्रकार की इन अवैध वेण्डरों के खिलाफ कोई कार्रवाई करने से कतराती रही.  गौर तलब है कि पहले भी इसी प्रकार की कई घटना घटित हो चुकी है. पूर्व में एक मेल एक्सप्रेस की इसी तरह चेन पुलिंग के बाद बरखेड़ा-बुदनी के बीच वेण्डरों द्वारा चेन पुलिंग के कारण गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होने से बाल-बाल बची थी. ज्ञात हो कि विगत माह से ट्रेनों में चल रहे अवैध वेण्डरों का वर्चस्व बढ़ता जा रहा है. इन्हे रोकने के बजाय आरपीएफ इसे संरक्षण देने का काम कर रही है.

जब गार्ड ने लगाई जान की बाजी
चेक पुलिंग ठीेक किये जाने को लेकर गोरखपुर एक्सप्रेस पर अपनी ड्युटी दे रहे गार्ड ने देखा कि कोई विकल्प नहीं दिख रहा है तो अंतत: उसने अपनी जान की बाजी लगा अपने कपड़े उतारकर अंडरवियर-बनियान में पुल के बीच में खड़ी चेन पुलिंग वाली कोच तक बमुश्किल ट्रेक के सहारे पहुंचकर चेन पुलिंग ठीक करने में सफल रहा. इस प्रक्रिया में उसे करीब 40 मिनट का समय लगा.

जयंती एक्सप्रेस भी हुई बोल्डर की शिकार
फिरोजपुर से मुम्बई जा रही पंजाब मेल बुधवार को लाईन के ऊपर पड़ी बोल्डर से टकरा गई जिससे दुर्घटना होते-होते बाल-बाल बची.  गाड़ी क्रं. 12138 पंजाब मेल कल शाम सॉची-सलामतपुर के बीच लाईन के ऊपर बोल्डर से जा टकराने के कारण केटलगाड टूटकर गिर गया. जिसके चलते पंजाब मेल 1 घंटे ट्रेक पर खड़ी रही.

केटलगाड ढूढते रहे अधिकारी – टूटकर गिरे हुए केटलगाड को लाईन पर देर रात्रि तक रेल अधिकारी ढूढते देखे गये.

स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस भी टकराई – पंजाब मेल की तरह एक दिन पूर्व मंगलवार को हजरत निजामुद्दीन से मैसूर जा रही गाड़ी क्रं. 12782 स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस भदभदा-सूखी सेवनियां के बीच बोल्डर से टकरा गई थी.

मनमानी बढ़ी- बीना-भोपाल के बीच तीसरी लाईन का काम चल रहा है. ठेकेदारों के अनदेखी के चलते लाईन पर बड़े-बड़े बोल्डर लापरवाहीपूर्ण से इधर-उधर छोड़ दिये जाते हैं जिससे हमेंशा ट्रेनों के दुर्घटनाग्रस्त होने की संंभावना बनी रहती है.

Related Posts: