भोपाल, 25 अप्रैल. ऊर्जा राज्य मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने फीडर स्थापना कार्य में गति लाने के निर्देश देते हुए कहा कि वे दस मई को फीडर सेपरेशन कार्य का स्थल निरीक्षण कर प्रगति का जायजा लेंगे. उन्होंने कहा कि फीडर सेपरेशन राज्य शासन का महत्वाकांक्षी कार्यक्रम है. इसमें किसी भी प्रकार की कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी. शुक्ल आज रीवा में विद्युत मण्डल अधिकारियों तथा निर्माण कम्पनियों के प्रतिनिधियों के साथ रीवा में फीडर सेपरेशन की समीक्षा कर रहे थे.

शुक्ल ने समीक्षा के दौरान जी.ई.टी. कम्पनी के कार्य में अपेक्षित प्रगति न होने पर अप्रसन्नता व्यक्त की और कार्य में गति लाने के लिये आवश्यक मार्गदर्शन दिया. श्री शुक्ल ने विद्युत मण्डल अधिकारियों से कहा कि वे कम्पनियों के कार्यो की सतत मानीटरिंग भी करें. उन्होने कार्य में तेजी लाने के लिये विभागीय अधिकारियों व कम्पनियों के बीच बेहतर तालमेल की आवश्यकता भी बताई. शुक्ल ने विद्युत मण्डल अधिकारियों और निर्माण कम्पनियों से कहा कि आम जनता को बिजली सुलभ करवाना हमारी प्राथमिकता है. इस कार्य में किसी भी प्रकार की शिथिलता नहीं बरती जानी चाहिए. फीडर विभक्तिकरण के लक्ष्य प्राप्ति के लिये दिसम्बर, 2012 की समय-सीमा के अनुरूप कार्य पूरा किया जाना सुनिश्चित करें.

ऊर्जा राज्य मंत्री ने कहा कि विद्युत आपूर्ति कार्यो और अब तक की प्रगति से क्षेत्रीय विधायकों को भी अवगत करवायें.  सभी विधायकों को उनके क्षेत्र में सम्पन्न तथा प्रगतिरत फीडर सेपरेशन कार्य, लाभान्वित गाँव और हितग्राहियों की जानकारी देना भी सुनिश्चित किया जाये.
बैठक में विद्युत मण्डल अधिकारियों व निर्माण कम्पनियों के प्रतिनिधियों ने ऊर्जा राज्य मंत्री को आश्वस्त किया कि जिले के लिये निर्धारित लक्ष्य को समय-सीमा में प्राप्त करने के लिये हर संभव प्रयास किये जायेंगे.राजेन्द्र शुक्ल ने जी.ई.टी. और ए टू जेड कम्पनियों के अधिकारियों से फीडर सेपरेशन कार्य की जानकारी प्राप्त की.

उन्होंने मटेरियल की उपलब्धता, कार्यरत मजदूरों की संख्या, कार्य को गति देने के लिये बढ़ाये जाने वाले मजदूरों की संख्या, पोल स्थापित करने तथा केबलिंग कार्य के बारे में विस्तृत जानकारी प्राप्त की. समीक्षा बैठक में प्रोजेक्ट डायरेक्टर एल.एन.उपाध्याय, सी.ई.फीडर सेपरेशन  ए.के. पांडेय, सी.ई.रीवा पी.के. क्षत्रिय, एस.ई. रीवा ए.आर.वर्मा, कार्यपालन यंत्री श्रीराम पांडेय, सरोज कुमार त्रिपाठी,आर.पी.काण्यकुब्ज तथा यू.पी.शुक्ल, जी.ई.टी. कम्पनी एवं ए टू जेड कम्पनी के प्रोजेक्ट मैनेजर आदि उपस्थित थे.

Related Posts: