केबल चोरी का मामला सीबीआई को सौंपेगा

भोपाल,2 नवम्बर. केबल चोरी से परेशान होकर बीएसएनएल अब सीबीआई की शरण में जाने की तैयारी कर रहा है. बीएसएनएल भोपाल के महाप्रबंधक गणेशचंद्र पांडे ने पत्रकार वार्ता में स्वीकार किया कि वे सीबीआई को मामला सौंपने जा रहे हैं.

राजधानी में कुछ ऐसे क्षेत्र हैं, जहां बार-बार केबल चोरी हो जाता है. नतीजा बीएसएनएल के लैंडलाइन और ब्राडबैंड इंटरनेट कनेक्शन ठप हो जाते हैं. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि केबल चोरी के अलावा बार-बार केबल का कटना भी एक बड़ी समस्या है. केबल कटने की घटनाओं की तो पुलिस थाने में एफआईआर भी दर्ज नहीं हो रही. एक अन्य सवाल के जवाब में पांडे ने माना कि कोलार रोड सहित राजधानी की कई अन्य क्षेत्रों की दूरस्थ कॉलोनियों में बीएसएनएल लैंडलाइन या ब्राडबैंड कनेक्शन देने की स्थिति में नहीं है. क्योंकि कंपनी के पास केबल नहीं है.

बीएसएनएल भोपाल की टेलीफोन अदालत शनिवार को होगी. इसके लिए शुक्रवार तक आवेदन दिए जा सकते हैं. भोपाल दूरसंचार जिले में भोपाल, सीहोर, इछावर, आष्टा, मंडीदीप, औबेदुल्लागंज, बैरसिया, बुधनी और नसरुल्लागंज शामिल हैं. पांडे ने बताया कि मोबाइल नेटवर्क में सुधार के लिए 16 नए टॉवर लगाए गए हैं. 7 और टॉवर लगाने का काम प्रगति पर है.

बीएसएनएल ने वीडियो टेलीफोनी की सुविधा शुरू की है. वीडियो टेलीफोनी एक ऐसी टेक्नॉलॉजी है जिसमें लैंडलाइन में ऑडियो के साथ वीडियो सिग्नल भी भेजे जा सकते हैं. ब्राडबैंड पर काम करने वाली इस टेक्नॉलॉजी का उपयोग वीडियो कांफ्रेंसिंग, टेली एजुकेशन और टेली मेडिसिन में किया जा सकता है. पांडे ने बताया कि रातीबढ़ क्षेत्र में वाइमैक्स टेक्नॉलॉजी से हाई स्पीड इंटरनेट और एमपी नगर, न्यू मार्केट, टीटी नगर और गोविंदपुरा क्षेत्र में एफटीटीएच टेक्नॉलॉजी से लैंडलाइन और ब्राडबैंड कनेक्शन देना शुरू कर दिया गया है. बीएसएनएल ने प्रीपेड ब्राडबैंड का प्लान भी लॉंच किया है.

Related Posts: