नई दिल्ली, 23 मई. टेलीकॉम कंपनियों ने स्पेक्ट्रम की ऊंची कीमत पर अपनी आवाज बुलंद करने के लिए पीडब्ल्यूसी की रिपोर्ट को पेश किया है.

इस रिपोर्ट के मुताबिक ट्राई के प्रस्तावित करीब 3600 करोड़ मेगाहर्ट्ज की रेट पर अगर कंपनियां स्पेक्ट्रम लेती हैं, तो कॉल की दरों में 26 पैसे प्रति मिनट की बढ़ोतरी का अनुमान है. वहीं मेट्रो शहरों में कॉल की दरें 90 पैसे तक महंगी हो सकती हैं. उधर ट्राई के दिए फार्मूले के मुताबिक कॉल दरों में सिर्फ 4.4 पैसे की बढ़ोतरी की गुजांइश है लेकिन पीडब्ल्यूसी ने ट्राई के इस अनुमान को गलत बताया है. पीडब्ल्यूसी के मुताबिक ट्राई ने टेलीकॉम कंपनियों के नेटवर्क पर जाने वाली सभी इनकमिंग और आउटगोइंग कॉल्स का हिसाब लगाया है, जबकि टेलीकॉम कंपनियां सिर्फ आउटगोइंग कॉल्स पर पैसे कमाती हैं.

Related Posts: