शीला की जवानी, छम्मक छल्लो जैसे हिट सांग देने वाली विशाल शेखर की जोड़ी इन दिनों फिल्म द डर्टी पिक्चर के गीतों को लेकर सुर्खियों में है. खासकर फिल्म का गीत उ ल ला ला… इन दिनों सभी को लुभा रहा है.

इस गीत के बारे में विशाल बताते हैं कि मिलन ने हमें इस फिल्म की स्क्रिप्ट सुनायी और कहा कि संगीत 80 के दशक के गीतों से प्रभावित होना चाहिए. यह हमारे लिए किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं था. हमारे अब तक के काम पर नजर डालें, तो हमने ज्यादातर मॉर्डन म्यूजिक को ही हिंदी सिनेमा से जोड़ा है. आइ हेट लवस्टोरी, रावन और तीस मार खां जैसी फिल्में इस बात का उदाहरण हैं लेकिन स्क्रिप्ट की डिमांड हिम्मत वाला, तोहफा जैसी फिल्मों के संगीत को प्रस्तुत करने की थी. जब हम संगीत कंपोज कर रहे थे, उस वक्त हमारे जेहन में बप्पी दा थे. बप्पी दा 80 के दशक के संगीत सरताज थे. उनसे बेहतर उस दौर को भला और कौन बयां कर सकता था. हम बप्पी दा के शुक्रगुजार हैं, जो वे इस गीत से जुड़े.

वैसे बप्पी दा से हमारा नाता पुराना है. हमारी फिल्म टैक्सी नंबर नो दौ ग्यारह में भी उन्होंने एक गीत मुंबई नगरिया.. गाया था. वह गीत भी सुपरहिट रहा था. उसके बाद हम रिऐलटी शो सारेगामापा में मेंटर के रूप में साथ रह चुके थे. इसलिए जब हमने उन्हें इस गाने का ऑफ़ र दिया, तो वे फ़ौरन  मान गये. इस गीत को गाते हुए उन्होंने कहा, यह गाना तो हमारा गाना लग रहा है. मैं इस बात को बहुत बड़ा सम्मान मानता हूं.

बप्पी दा की तारीफ़ करने के साथ ही विशाल इस फि़ ल्म के गीतकार रजत अरोरा की भी तारीफ़ करना नहीं भूलते. वे कहते हैंए हर गीतकार शायरी लिखता है, लेकिन फिल्म की स्क्रिप्ट के हिसाब से गीत लिखना बहुत मुश्किल होता है और इसी काम को रजत ने किया. फिल्म के गीतों में मौजूद मजाकिया तत्व का क्रेडिट पूरी तरह से रजत को जाता है. रजत ने इस फिल्म के संवाद भी लिखे हैं. इसलिए फि़ ल्म की डिमांड को वे और अच्छी तरह से समझते थे. उन्होंने अपना बेहतरीन दिया. विशाल फि ़ल्म के अन्य गीतों के बारें में कहते हैं कि उ ला ला… के अलावा ट्विंकल ट्विंकल और हनीमून की रात इन सभी गीतों में एक शरारत छिपी है, लेकिन इश्क सूफि य़ाना बिल्कुल अलग तरह का गीत है. इस गीत को हमने सारेगामापा विनर कमाल खान से गवाया है.

जब हम उस शो से जुड़े थे, तभी हमने वादा किया था कि हम प्रतिभाशाली गायकों को अपनी फिल्मों मे गाने का मौका देगें. डर्टी पिक्चर के गीत भले ही श्रोताओं को लुभा रहे हैं लेकिन संगीत से जुड़े लोगों की मानें, तो यह फि़ ल्म संगीत के लिहाज से कुछ अलग या अनूठी पहल नहीं करते हैं. इस पर विशाल कहते हैं कि जब कोई पैसे देकर हमारी फिल्म की सीडी या गीतों को डाउनलोड करता है, तो हमारी जिम्मेदारी बनती है कि संगीत इंटरनटेनिंग हो. हम सिर्फ अपनी संतुष्टि के लिए संगीत नहीं बना सकते. अपनी फि़ल्म के गीतों की तारीफ़ करने के साथ ही विशाल फि़ल्म की निर्मात्री एकता कपूर के बारे में कहते हैं कि एकता में गजब की पॉजिटिव एनर्जी है. उनके साथ काम करने का अपना ही मजा है.

Related Posts: