इंदौर, 2 जुलाई. सीबीआई पर शहला मसूद मामले के असली मुलजिमों को बचाने का इल्जाम लगाते हुए प्रमुख आरोपी जाहिदा परवेज ने आज कहा कि आरटीआई कार्यकर्ता के हत्याकांड के हाई प्रोफाइल प्रकरण में भाजपा विधायक ध्रुवनारायण सिंह की पत्नी वंदना को भी आरोपी बनाया जाना चाहिये था। वंदना इस मामले के गवाहों में शामिल हैं।

जाहिदा ने एक स्थानीय अदालत में पेशी के दौरान जिला न्यायालय परिसर में चलते-चलते संवाददाताओं से कहा, ‘सीबीआई ने (शहला हत्याकांड में) हर उस आदमी को बचाया है, जो (असली) आरोपी था। भोपाल की इस इंटीरियर डिजाइनर ने 22 जून को मीडिया के कैमरों के सामने दावा किया था कि ध्रुवनारायण की पत्नी वंदना ने शहला की हत्या के दिन उसके घर फोन किया था। इसके इस बयान को लेकर जब उससे आज पूछा गया कि क्या भोपाल (मध्य) के भाजपा विधायक की बीवी की शहला हत्याकांड में कोई भूमिका है, तो उसने कहा कि वंदना को इस मामले में आरोपी बनाया जाना चाहिये था और ‘उसे क्यों छोड़ा जा रहा है।

गौरतलब है कि ध्रुवनारायण पर शहला हत्याकांड का ‘मास्टर माइंडÓ होने का आरोप लगाते हुए जाहिदा उन्हें मामले में सीबीआई के ‘क्लीन चिटÓ दिये जाने पर जांच एजेंसी के खिलाफ पहले ही बयानबाजी कर चुकी है। शहला हत्याकांड की प्रमुख आरोपी ने मीडिया के एक तबके में आयी खबरों को खारिज करते हुए स्पष्ट किया कि उसने मामले में कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह पर अंगुली उठाने वाला कोई बयान नहीं दिया है। शहला की उनके भोपाल स्थित घर के बाहर 16 अगस्त 2011 को गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। जाहिदा पर आरोप है कि उसने इस हत्याकांड की साजिश सौतिया डाह के चलते रची, क्योंकि आरटीआई कार्यकर्ता की नजदीकियां ध्रुवनारायण से लगातार बढ़ती जा रही थीं।

Related Posts: