• भंवरी अपहरण का मामला

मामले की ढीली जांच को लेकर हाईकोर्र्ट ने जताई नाराजगी

जोधपुर, 14 नवंबर.  भंवरी के भंवर में फंसी राजस्थान की गहलोत सरकार के साथ इस मामले की जांच कर रही सीबीआई की भी मुश्किल बढ़ गई लगती है। राजस्थान हाईकोर्ट ने सोमवार सीबीआई को ढीली जांच के लिए फटकार लगाते हुए कहा है कि वह जल्द पता लगाए कि भंवरी देवी जिंदा है या मर गई है। अदालत ने इस बात को लेकर चिंता जताई है कि भंवरी कांड का हश्र भी कहीं नोएडा के बहुचर्चित आरुषि हत्याकांड की तरह न हो जाए।

हाईकोर्ट ने भंवरी मामले की ढीली जांच पर सीबीआई को फटकार लगाई। अदालत ने सीबीआई से कहा है कि वह दस दिन के भीतर बताए कि भंवरी देवी जिंदा है या मर गई है। जांच एजेंसी को हिदायत दी गई है कि वह इस बात की पूरी कोशिश की जाए कि भंवरी कांड को आरुषि हत्याकांड की तरह न खींचा जाए। अदालत ने 10 दिनों के भीतर भंवरी केस पर स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। मामले की अगली सुनवाई के लिए 24 नवंबर की तारीख तय की गई है। सीबीआई ने कोर्ट से इस मामले की जांच के लिए और चार हफ्ते का वक्त मांगा था लेकिन अदालत ने ऐसी मंजूरी नहीं दी। भंवरी के पति अमरचंद की ओर से दायर बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका में सीबीआई व राज्य सरकार ने सोमवार को हाईकोर्ट में प्रोग्रेस रिपोर्ट पेश की।

खबर है कि मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के छह सहयोगी मंत्रियों ने जयपुर में गुप्त बैठक की है। ये मंत्री मंत्रिमंडल में प्रस्तावित फेरबदल से नाराज बताए जा रहे हैं। इनकी बैठक को मुख्यमंत्री पर दबाव बनाने की रणनीति के रूप में देखा जा रहा है। ये चाहते हैं कि गहलोत को मंत्रिमंडल में फेरबदल से किसी तरह रोका जाए। डॉक्टरों के अनुसार मदेरणा की अधिकांश जांच रिपोर्ट सामान्य हैं पर ब्लड प्रेशर बढ़ा हुआ है। फिर भी यह तय नहीं है कि उन्हें सोमवार को अस्पताल से छुट्टी मिलेगी या नहीं।  मदेरणा की मुश्किल पुडुचेरी के पूर्व उप राज्यपाल और कांग्रेस नेता रहे स्व. गोविंद सिंह गुर्जर के दत्तक पुत्र सुनील गुर्जर के एक दावे से और बढ़ सकती है। गुर्जर ने दावा किया है कि मदेरणा व भंवरी की आपत्तिजनक क्लिपिंग उसके पास डेढ़ साल पहले आ गई थी। मदेरणा को बताने पर उन्होंने धन्यवाद देते हुए कहा था कि वे मामले को संभाल लेंगे। सुनील सोमवार को जयपुर में मीडिया के समक्ष अपना पक्ष रखने वाले हैं। वह उन दो युवकों को भी सीबीआई के समक्ष पेश करेंगे, जो मदेरणा की क्लिपिंग लाए थे। भंवरी देवी प्रकरण में सुनील गुर्जर की कथित भूमिका को लेकर कई तरह चर्चाएं हैं। कहा जा रहा है कि सीबीआई उसे तलाश रही है, इसीलिए वह भूमिगत हो गया है। सुनील ने दावा किया कि मैं स्थायी रूप से जयपुर में रह रहा हूं, मेरा फोन भी चालू है, न मैं भूमिगत हूं और न ही मेरा इस मामले में कोई लेना-देना है।

Related Posts: