• संभाग स्तर पर प्रयोगशाला की स्थापना होगी

खाद बीज की कालाबाजारी रोकने कलेक्टर अधिकृत-कुसुमरिया

भोपाल,24 नवंबर नभासं.मध्यप्रदेश विधानसभा में आज किसान कल्याण मंत्री रामकृष्ण कुसमरिया ने कहा कि केन्द्र सरकार से निरंतर मांग किये जाने के बावजूद खाद और बीज की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में नही की गई.

कुसमरिया ने खाद बीज की कमी कालाबाजारी एवं नकली खाद बीज और कीटनाशक की बिक्री से उत्पन्न स्थिति के विषय में हुई लंबी चर्चा का जवाब देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री और वे स्वयं खाद को लेकर कई बार केन्द्रीय मंत्रियों से प्रदेश के किसानों के लिए पर्याप्त मात्रा में खाद और बीज की आपूर्ति करने क ी चर्चा कर चुके है.लेकिन केन्द्र ने पर्याप्त मात्रा में खाद एवं बीज की आपूर्ति नही की. उन्होंने कहा कि खरीफ और रबी के मौसम में जब जब केन्द्र सरकार से उर्वरक की जितनी मांग की गई.हमेशा उससे कम मात्रा में उर्तरक प्रदाय की गई. उन्होंने कहा कि गत अगस्त माह में खरीफ के लिए केन्द्र सरकार से छह लाख मेट्रिक टन डीएपी खाद की मांग गई थी.लेकिन 3.84 लाख मेट्रिक टन डीएपी खाद दिया गया. इसी प्रकार पोटाश की 90 हजार मेट्रिक टन की मांग करने पर 22 हजार मेट्रिक टन दिया गया.खरीफ फसल में 15.05 लाख मेट्रिक टन उर्वरक की मांग करने पर 13110 लाख मेट्रिक टन उपलब्ध कराया गया.

कुसमरिया ने कहा कि चालू रबी सीजन में राज्य सरकार द्वारा 4.85 लाख मेट्रिक टन खाद की मांग करने पर केन्द्र सरकार द्वारा 3.40 लाख मेट्रिक टन खाद की आपूर्ति की गई. इसी यूरिया खाद के लिए 1125 मेट्रिक टन की मांग करने पर 3.49 मेट्रिक टन उपलब्ध कराया गया.उन्होंने कहा कि उर्वरकों की मांग के हिसाब से केन्द्र सरकार द्वारा काफी कम मात्रा में आपूर्ति करने का खामियाजा प्रदेश के किसानों को भुगतना पडा है. उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार से उर्वरकों के क्रय करने में केन्द्र सरकार असफल रही है तो उसका दोष मध्यप्रदेश को देना उचित नही है.उन्होंने काफी कम मात्रा में उर्वरकों की आपूर्ति किये जाने के संबंध में विपक्ष का ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि राज्य सरकार पर आरोप लगाने की बजाय केन्द्र सरकार से चर्चा कर इस समस्या निराकरण कराये.

उन्होंने कहा कि प्रदेश को उर्वरक की आपूर्ति के लिए प्रतिदिन 10 रेलवे रैक की आवश्यकता होने की तरफ मुख्यमंत्री द्वारा रेल मंत्री का ध्यान आकर्षित करने के बावजूद प्रतिदिन दो से चार रैक मिल पा रहा है.जिस दिन रेल मंत्री भोपाल आये थे उस दिन 10 रैक भेजे गये थे. कुसमरिया ने कहा कि प्रदेश में खाद बीज के समुचित वितरण और इसकी कालाबाजारी को रोकने के लिए सख्त कदम उठाये गए है.खाद बीज की आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित करने तथा किसी भी स्थिति में कालाबाजारी न हो इसके लिए जिला कलेक्टरों को अधिकृत किया गया है. उन्होने कहा कि खाद बीज का अवैध व्यापार करने वाले लोगों के खिलाफ छापे की कार्यवाही व्यापक पैमाने पर की जा रही है. उन्होंने कहा कि किसानों को गुणवत्तायुक्त बीज उपलब्ध कराने के लिए राज्य के प्रत्येक संभाग स्तर पर प्रयोगशाला की स्थापना की जा रही है. इस विषय पर तीन दिनों में चार घंटे से अधिक समय तक चर्चा हुई .इस चर्चा में सत्ता और विपक्षी दलों के लगभग देड दर्जन सदस्यो ने हिस्सा लिया.

Related Posts: