लोकायुक्त की कार्रवाई में हुआ मामला उजागर

सिंचाई विभाग के कार्यपालन यंत्री के घर शाम तक चली कार्यवाही, तलाशी में मिले चार लाख रूपये नकद

रीवा, 17 फरवरी, नव. सं. सिंचाई विभाग के कार्यपालन यंत्री महेन्द्र सिंह यादव के रीवा स्थित किराये के मकान एवं शाहपुरा भोपाल के मकान में आज तड़के एक साथ छापा मारकर लोकायुक्त पुलिस ने करोड़ों की सम्पत्ति उजागर की है.

जांच के प्राथमिक चरण में सम्पत्ति के जो आंकड़े सामने आये है उसकी वर्तमान दर लगभग पांच से छह करोड़ हो सकती है. घर से नगद चार लाख रूपये बरामद किये गये है. एक लाकर भी मिला. आज सुबह छह बजे पुलिस अधीक्षक मिथिलेश शुक्ला के निर्देशन में रीवा एवं भोपाल स्थित आवास में आरोपी की सम्पत्ति की तलाशी की कार्यवाही शुरू की गई. जो अभी जारी है. शिकायत मिलने पर गोपनीय जांच की गई. जांच पर श्री यादव के विरूद्ध प्रथम दृष्टया अनुपातहीन सम्पत्ति अर्जित किये जाने पर धारा 13 (1) ई सहपठित 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत मामला पंजीबद्ध कर विशेष न्यायालय से सर्च वारंट प्राप्त करने के बाद दोनों जगह छापे की कार्यवाही की गई. महेन्द्र सिंह यादव मार्च 2011 में रीवा आये और वितरिका नहर संभाग में प्रभारी कार्यपालन यंत्री के रूप में पदस्थ हुये. 1984 से सेवा में है.

यादव की संपत्ति का ब्यौरा

सम्पत्ति में कार्यपालन यंत्री के रीवा स्थित किराए के मकान में नकद चार लाख, सोने चांदी के जेवरात, एक कार, पोस्ट आफिस गुना में दो रेकरिंग खाता, भारतीय जीवन बीमा पालिसी, पांच बैंक खाते, मनीषा मार्केट शाहपुरा भोपाल में दो मंजिला मकान, शिवपुरी में प्लाट, पत्नी के नाम ग्राम राजा की मुड़ेरी में दस एकड़ जमीन, टाउनशिप ग्वालियर एक फ्लैट, पुत्र के नाम शिवपुरी में 5 बीघा कृषि भूमि, पत्नी के नाम गुना में पांच एकड़ का फार्म हाउस, एटीएस गार्डेन छठवीं मंजिल सेक्टर 50 नोएडा उत्तर प्रदेश में एक फ्लैट का पता लगा है. इसके अलावा एक लॉकर का भी पता लगा है जिसे अभी खोला नहीं गया. कार्यवाही के दौरान अभी तक 94 लाख की अनुमानित कीमत आंकी गई है. जिसकी वर्तमान दर लगभग पांच से छह करोड़ हो सकती है.

Related Posts: