नई दिल्ली, 31 जुलाई. प्रेजिडेंट चुनाव के बाद केंद्रीय कैबिनेट में बड़ा फेरबदल किया गया है. प्रणव के जाने से खाली हुई वित्त मंत्री की कुर्सी पी. चिदंबरम को सौंपी गई है. वहीं ऊर्जा मंत्री सुशील कुमार शिंदे नए गृह मंत्री होंगे. कानून मंत्री वीरप्पा मोइली को ऊर्जा मंत्रालय का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है.

कैबिनेट में फेरबदल राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की मंजूरी के लिए भेज दिया गया है. प्रणव मुखर्जी के प्रेजिडेंट बनने के बाद से केंद्रीय कैबिनेट में बदलाव की सुगबुगाहट थी. कैबिनेट में फेरबदल से शपथ ग्रहण की आवश्यकता नहीं होगी, क्योंकि सभी पहले से ही कैबिनेट मंत्री हैं. सूत्रों के मुताबिक प्रधानंत्री मनमोहन सिंह पी. चिदंबरम को वित्त मंत्री के रूप में देखना चाहते थे. बतौर वित्त मंत्री चिदंबरम काफी अनुभवी हैं और यूपीए सरकार में वह इस पद की जिम्मेदारी बखूबी संभाल चुके हैं.

अटकलों को टाल गए चिदंबरम

केन्द्रीय गृह मंत्री पी चिदंबरम खुद को वित्त मंत्रालय की जिम्मेदारी सौंपे जाने के बारे में अटकलों को आज टाल गए. श्री चिदंबरम यहां जब गृह मंत्रालय की मासिक रिपोर्ट पेश कर रहे थे तब संवाददाताओं ने उनसे पूछा कि क्या उन्हें वित्त मंत्री बनाया जा रहा है.  इसके जवाब में उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा नहीं लगता और वह गृह मंत्रालय में अपने कामकाज से संतुष्ट हैं . रिपोर्टों के अनुसार श्री चिदंबरम को वित्त मंत्री नियुक्त किए जाने के बारे में अधिसूचना राष्ट्रपति की मंजूरी के लिए भेजी जा चुकी है . इस बारे में सवाल के जवाब में श्री चिदंबरम ने मुस्कराते हुए कहा मैं बहुत छोटा आदमी हूं और राष्ट्रपति ने मुझे इस बारे में कुछ नहीं बताया . राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी ने इस पद का उम्मीदवार बनने से पहले वित्त मंत्री के ओहदे से इस्तीफा दे दिया था. उनके इस्तीफे के बाद से यह मंत्रालय प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पास ही है.

Related Posts: