सागर, 23 नवम्बर.  कुलपति हटाओ विवि बचाओ आंदोलन के छटवें दिन बुधवार को अभाविप, भाजयुमो एवं समर्थन कर रहे अन्य संगठनों ने कुलपति का विरोध कर विवि बंद कराया.

इस दौरान सिविल लाइन स्थित विवि घाटी पर जब आंदोलनकारी नारे लगाते हुए विवि तरफ जाने लगे तो वहां पर पहले से मौजूद भारी मात्रा में पुलिस बल ने उन्हें जाने से रोका, इस दौरान आंदोलनकारियों एवं पुलिस के बीच हाथा-पाई व झूमा-झपटी हुई, उसके बाद प्रदर्शनकारियों ने जमकर प्रदर्शन कर नारेबाजी कर अपना विरोध जताया एवं गिरफ्तारियां दीं. विवि बंद को लेकर पूरा विवि पुलिस छावनी में तब्दील रहा. कुलपति निवास, विवि की घाटी, तहसील स्थित पीछे तरफ व चप्पे-चप्पे पर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात रहा, जिससे छात्रों व अन्य लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ा. विवि की ओर जाने वाले तीनों मार्गों पर भारी मात्रा में पुलिस बल तैनात रहा, जिससे लोग विवि की ओर नहीं जा सके. अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के शांतिपूर्ण विवि बंद के आह्वïान पर सिविल लाइन पर बड़ी संख्या में विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता, युवा मोर्चा व भाजपाई एकत्रित हुए.  सिविल लाइन स्थित गौर प्रतिमा पर माल्यार्पण कर कार्यकर्ताओं का जत्था यूनिसर्सिटी बंद कराने आगे बढ़ा.

पुलिस के भारी बन्दोबस्त के बीच डॉ. गौर अमर रहे, कुलपति हटाओ विवि बचाओ के नारे लगाते रहे. पुलिस द्वारा बैरीगेट्स लगाकर रोकने के प्रयास किए गए. आंदोलनकारियों एवं पुलिस के बीच भारी रस्सा-कसी, हाथा-पाई, नारेबाजी हुई. पुलिस वहां से आंदोलनकारियों को गिरफ्तार कर खेल परिसर अस्थायी जेल ले गई, जिसमें लगभग 300 युवाओं ने गिरफ्तारी दी. गिरफ्तारी के बाद विद्यार्थी परिषद के विभाग संयोजक सौरभ मिश्रा ने कहा कि कुलपति एनएस गजभिए आंदोलन को दवाने, विवि एवं प्रशासन के गलत इस्तेमाल पर उतारू है. आंदोलन को मिल रहे विभिन्न संगठनों के समर्थन को दवाने, ओछे हथकंडे अपना रहे हैं, परंतु परिषद अपने आह्वन पर कायम है. परिषद सबके समर्थन से डॉ. गौर साहब की जयंती धूम-धाम से मनायेगी व भ्रष्टाचार में लिप्त कुलपति गजभिये को गौर साहब की प्रतिमा पर माल्यार्पण का विरोध करेगी. भाजयुमो प्रदेश मंत्री अभिषेक भार्गव व जिला अध्यक्ष गौरव सिरोठिया गिरफ्तारी स्थल से जारी व्यक्तव्य में कहा कि युवा मोर्चा परिषद के संपूर्ण कार्यक्रम का पूर्ववत समर्थन जारी रखेगा. अभिषेक भार्गव ने आरोप लगाया कि कुलपति और उनकी मंडली का शैक्षणिक कार्य विवि के विकास और छात्र हित को नजर अंदाज कर भ्रष्टाचार के मुद्दों को दवाने की राजनीति पर उतर आये हैं,

Related Posts: