वाराणसी, 30 सितंबर. सूबे की मुख्यमंत्री पब्लिक से पूरी तरह दूर रहीं, लेकिन जनहित की अनदेखी न हो इसके लिए अफसरों को सख्त निर्देश दिए। फरियादी को हर हाल में न्याय मिलना चाहिए। शुक्रवार को वह आजमगढ़ व जौनपुर के दौरे पर थीं।

हेलीकाप्टर से आजमगढ़ पुलिस लाइन पहुंचने के बाद वह सीधे सदर तहसील पहुंचीं। तहसील दिवस के रजिस्टर का गहनता से निरीक्षण करने के बाद अफसरों से उन्होंने कहा कि फरियादियों का मोबाइल नंबर भी इसमें दर्ज किया जाए। समस्या का समाधान होने के बाद उच्चाधिकारी खुद फरियादी से संपर्क कर यह सुनिश्चित करें कि प्रशासन की कार्रवाई से वह संतुष्ट है या नहीं। मुख्यमंत्री ने कुछ पट्टाधारकों की पत्रावली पर फोटो नहीं होने पर नाराजगी जतायी और कहा कि इसे तुरन्त ठीक कर लिया जाए।

विधानसभा चुनाव के बाबत उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह निष्पक्ष हो और आयोग के दिशा-निर्देशों का कड़ाई से पालन होना चाहिए। इसके बाद सीएम शहर कोतवाली पहुंचीं। वहां भी अभिलेखों का निरीक्षण दिया। यहां से मुख्यमंत्री जौनपुर पहुंचीं। वहां जलालपुर विकास खंड के अंबेडकर गांव खुटहना का निरीक्षण किया। वहां उन्हें सब कुछ ओके मिला।

इसके बाद प्राथमिक विद्यालय में पहुंचकर उन्होंने कक्षा एक व चार के छात्रों से अध्यापक के आने व मध्याह्न भोजन मिलने के बाबत जानकारी ली। अंत में कानून व्यवस्था से संबंधी अभिलेखों का अवलोकन कर मौके पर मौजूद पुलिस अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिये। जाते-जाते उनकी नजर गांव के तालाब पर पड़ी, तो उसकी बदहाल दशा देख उन्होंने तुरंत इसके सुंदरीकरण की बात कही।

उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री मायावती ने अधिकारियों को निर्देश दिया है कि विधानसभा चुनावों को देखते हुए स्टेट बार्डर पर सिक्योरिटी के पुख्ता इंतजाम करें। चुनाव के मद्देनजर अपराधी गड़बड़ी फैलाने की कोशिश कर सकते हैं, उन्हें सींखचों के पीछे डाला जाए। पूर्वाचल में बीते दिनों हुई भारी वर्षा के बाद जगह-जगह मोहल्लों व गांवों में एकत्र पानी की निकासी तुरंत कराने का निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारियों की रोकथाम के लिए तुरंत कदम उठाए जायें। धन की कोई कमी नहीं है, प्रस्ताव भेजें।

मुख्यमंत्री पूर्वाचल के जौनपुर, आजमगढ़, वाराणसी, सोनभद्र, मीरजापुर व चंदौली जिलों का कहीं स्थलीय तो कहीं हवाई निरीक्षण करने के बाद वाराणसी के बाबतपुर एयरपोर्ट स्थित सेमिनार हाल में जोन के अधिकारियों संग बैठक कर रही थीं। उन्होंने कहा कि पूर्वाचल, खासकर वाराणसी में सड़कों की दशा बेहद खराब है। इन्हें युद्ध स्तर पर ठीक किया जाए और इसमें लापरवाही क्षम्य नहीं होगी।

आधे घंटे की मीटिंग के बाद मुख्यमंत्री लखनऊ के लिए रवाना हो गयीं। इस दौरान मीडिया को बैठक से दूर रखा गया था। आजमगढ़ के लालगंज व जौनपुर के शाहगंज को नया जिला बनाने की घोषणा को लेकर अटकलों का बाजार गर्म रहा, लेकिन सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री ने इस संबंध में कोई घोषणा नहीं की।

Related Posts: