एक हफ्ते में गेहूं खरीदी व्यवस्था न सुधरने पर दी चेतावनी

भोपाल 26 अप्रैल. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया ने कहा है कि राज्य के पूर्व मुख्य मंत्रियों ने अपनी परिपक्व कार्यशैली से प्रदेश की नेतृत्व क्षमता को जो गरिमा प्रदान की थी, उसको शिवराजसिंह आये दिन अपनी नौटंकीबाजी के जरिए बदनाम कर रहे हैं. वे दिल्ली में जब चाहे तब केंद्र सरकार के खिलाफ धरने की नौटंकी पर उतारू हो जाते हैं.

पूर्व में खाद संकट का हल निकालने की बजाय उन्होंने भाजपा सांसदों को साथ लेकर दिल्ली में तमाशा किया था. आपने कहा है कि इस बार समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी की व्यवस्था को ठीक से न चला पाने से मिली शर्मनाक विफलता को छिपाने के लिए वे संसद के सामने धरने पर बैठने की घोषणा कर रहे हैं. अब तो स्थिति ऐसी बन गई है कि जब भी प्रदेश में कोई संकट पैदा होता है वे उससे प्रभावित समुदाय के गुस्से को केंद्र की तरफ  मोड़कर अपनी मूल जवाबदारी से मुक्ति पाने के लिए दिल्ली रवाना हो जाते हैं.

यह तो जवाबदार नहीं, बल्कि एक गैर जवाबदार मुख्य मंत्री की पहचान है. प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने चेतावनी दी है कि एक हफ्ते के भीतर समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी को पूरे प्रदेश में पुन: बहाल नहीं किया गया तो कांग्रेस द्वारा किसानों के हित में प्रांतव्यापी आंदोलन किया जाएगा. उन्होंने कहा है कि म.प्र. नागरिक आपूर्ति निगम ने 24 अप्रैल को 50 हजार गठान प्लास्टिक बारदाने के लिए टेंडर निकाले हैं जो कल 27 अप्रैल को खोले जाएंगे. इसके अलावा 3200 गठान बारदाना कल शुक्रवार को इटारसी पहुंच रहा है. इससे स्पष्ट है कि बारदाने को लेकर मुख्य मंत्री को होहल्ला मचाने की कतई आवश्यकता नहीं थी. जब ढ़ाई करोड़ बारदाने के लिए टेंडर आमंत्रित किये ही जा चुके थे तो बारदानों की खरीदी भी निश्चित थी. इस तथ्य से स्पष्ट है कि मुख्य मंत्री ने सारी नाटकबाजी बिचौलियों को बेजा फायदा पहुंचाने और केंद्र को परेशान करने के लिए की है.

Related Posts: