भोपाल में सौंपा राज्यपाल को ज्ञापन

भोपाल, 10 अप्रैल, नभासं. कांग्रेस के आव्हान पर राजधानी भोपाल में जिला कांग्रेस कमेटी के तत्वावधान में दो स्थानों पर घेराव-धरना आयोजित हुआ. कांग्रेस के प्रदेश सचिव नासिर इस्लाम के नेतृत्व में पुराने भोपाल के रेतघाट स्थित बिजली केंद्र का घेराव किया गया.

कांग्रेस के धरना-घेराव का दूसरा कार्यक्रम नये भोपाल के वि_न मार्केट के मेट्रो प्लाजा स्थित म.प्र. विद्युत नियामक आयोग के दफ्तर के बाहर हुआ, जिसका नेतृत्व जिला (शहर) कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष पी.सी. शर्मा ने किया. इन दोनों कार्यक्रमों में मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल सहित कांग्रेस पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में भाग लेकर बढ़ी हुई बिजली की दरों को तत्काल वापस लेने की मांग करते हुए जमकर नारेबाजी की. यहां पर कांग्रेस कार्यकर्ता और पुलिस के बीच कई बार झड़पें हुईं और पुलिस ने कांग्रेसियों पर दौड़ा-दौड़ाकर लाठीचार्ज किया, जिसमें कई कांग्रेसियों को चोटें आई हैं.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया और नेता प्रतिपक्ष अजयसिंह ने कांग्रेसियों पर पुलिस लाठीचार्ज की कड़ी निंदा की है. ये दोनों वरिष्ठ नेता जन जागरण दौरे के अंतर्गत आज सुबह रतलाम जिले के आदिवासी बहुल सैलाना पहुंचे थे. कांग्रेस के इस प्रांतव्यापी आंदोलन के संबंध में जिलों से प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार आज सुबह से ही कांग्रेसजनों ने घेराव और धरने का शांतिपूर्ण आंदोलन शुरू कर दिया था. धरना-घेराव स्थलों पर कांग्रेस पदाधिकारियों ने भाजपा सरकार द्वारा की जा रही मनमानी दर वृद्धि के फलस्वरूप आम उपभोक्ताओं, किसानों और उद्योग जगत पर कितना अतिरिक्त बोझ झेलना पड़ेगा, उसके बारे में विस्तार से जानकारी दी.

और बताया कि भाजपा सरकार ने अपने 8 वर्ष के कार्यकाल में 8 बार दर वृद्धि की है. इस विषय पर आम जनता का भारी आक्रोश भी कांग्रेस के आंदोलन के दौरान खुलकर सामने आया. सौंपा ज्ञापन- म.प्र. सरकार द्वारा म.प्र. विद्युत नियामक आयोग की आड़ लेकर बिजली की दरों में भारी वृद्धि का कड़ा विरोध करते हुए कांग्रेस के एक प्रतिनिधि मंडल ने आज सुबह राजभवन में राज्यपाल रामनरेश यादव से मुलाकात कर उन्हें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कांतिलाल भूरिया की ओर से एक ज्ञापन सौंपा है.

प्रतिनिधि मंडल में कांग्रेस सांसद सुश्री मीनाक्षी नटराजन, प्रदेश कांग्रेस के मीडिया विभाग के अध्यक्ष मानक अग्रवाल, प्रशासनिक कार्य प्रभारी एवं कोषाध्यक्ष गोविंद गोयल, प्रशिक्षण प्रभारी सचिव कैप्टन जयपालसिंह, महामंत्री डॉ. तनिमा दत्ता, प्रदेश सचिव नासिर इस्लाम, मीडिया प्रभारी प्रमोद गुगालिया, प्रवक्ता जे.पी. धनोपिया, अभय दुबे और त्रिलोक दीपानी, सचिव रवि सक्सेना, पूर्व विधायक पी. सी. शर्मा, संजय दुबे, अकबर बेग, पार्थसारथी दुबे तथा हैदरयार खान शामिल थे. राज्यपाल को सौंपे गए इस ज्ञापन में बिजली की दरों में वृद्धि को अनावश्यक और अव्यावहारिक बताते हुए उसको तत्काल वापस लेने की मांग की गई है. ज्ञापन में कहा गया है कि बिजली की दरों में बढ़ोतरी के कारण आम उपभोक्ताओं, किसानों और उद्योग जगत की कठिनाइयां कई गुना बढ़ जाएंगी.

Related Posts: