नयी दिल्ली, 24 सितंबर. कांग्रेस महासचिव राहुल गांधी ने सोमवार को सर्वोच्च न्यायालय से कहा कि उन पर लगाया गया यह आरोप कि अपने अमेठी लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में उन्होंने एक महिला के साथ बलात्कार किया, उन्हें बदनाम करने की एक कुटिल राजनीतिक साजिश है।
सर्वोच्च न्यायालय में राहुल की ओर से पेश वकील पी.पी. राव ने न्यायमूर्ति बी.एस. चौहान और न्यायमूर्ति स्वतंत्र कुमार की खंडपीठ से कहा, यह स्पष्ट रूप से देश के होनहार युवा नेता को बदनाम करने की कुटिल राजनीतिक साजिश का मामला है।

अदालत किशोर समरीते द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी।समरीते ने एक वेबसाइट की खबर के आधार पर आरोप लगाया कि तीन दिसम्बर, 2006 को जब राहुल गांधी उत्तर प्रदेश स्थित अपने निर्वाचन क्षेत्र के दौरे पर थे, उन्होंने अपने छह मित्रों के साथ एक महिला के साथ कथित रूप से बलात्कार किया और उसे अवैध रूप से कमरे में बंद रखा।
उल्लेखनीय है कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय समरीते की याचिका पहले ही खारिज कर चुकी है और उनके खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने का आदेश दे चुकी है तथा 50 लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

मुलायम नहीं, राहुल अगले पीएम : बेनी

लखनऊ, 24 सितंबर. तीसरे मोर्चे के गठन और सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव के प्रधानमंत्री बनने की संभावनाओं को पूरी तरह नकारते हुए केन्द्रीय इस्पात मंत्री बेनी प्रसाद वर्मा ने सोमवार को कहा कि राहुल गांधी वर्ष 2014 में होने वाले लोकसभा के चुनाव के बाद प्रधानमंत्री होंगे और मुलायम उनका समर्थन करेंगे। ‘समाजवादी पार्टी केन्द्र की संप्रग सरकार की सहयोगी है। मुलायम सिंह यादव से पुराने राजनैतिक और व्यक्तिगत संबंध रहे हैं तो उनके प्रति सकारात्मक विचारों को मेरी सपा में पुन: वापसी से जोड़ कर नही देखा जाना चाहिए।

Ó वर्मा ने कहा ‘हां, मुलायम सिंह यादव के प्रति नरम रूख स्वाभाविक है. क्योंकि सपा केन्द्र सरकार की सहयोगी है और यादव के कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी तथा प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से अच्छे संबंध हैं। इसके अलावा मैं भी केन्द्र में मंत्री हूं। ऐसी स्थिति में मुलायम के प्रति नरम रूख लाजमी है। Ó मुलायम सिंह यादव के प्रति अभी तक बेहद तल्ख रुख रखने के बाद अचानक नरम रूख को लेकर सपा में पुन: वापसी की अटकलों के बारे में वर्मा ने स्पष्ट किया ‘समाजवादी पार्टी में वापसी की कोई गुंजाइश नहीं है। पूरी जिदंगी कांग्रेस में रहूंगा। वहां मुझे भरपूर मान और सम्मान मिला है।Ó उन्होंने कहा कि सपा में क्यों वापसी करूंगा? मुझे अब विधायक नहीं बनना, केन्द्र और केन्द्रीय राजनीति में सपा की भूमिका सहयोगी की ही है। मैं कांग्रेस में हूं और ताउम्र रहूंगा।

Related Posts: