नई दिल्ली, 1 नवम्बर. सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के बढ़ते दाम और डॉलर के मुकाबले कमजोर पड़ते रुपए को देखते हुए पेट्रोल के दाम में 1.82 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि के लिए दबाव बनाया है।

तेल कंपनियों ने इससे पहले सितंबर में भी पेट्रोल के दाम बढ़ाए थे। हिन्दुस्तान पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड  के निदेशक (वित्त) बी. मुखर्जी ने  बताया ‘आज से हमें पेट्रोल पर कुछ नुकसान हो रहा है। इसकी भरपाई के लिए हमें कीमत बढ़ानी पड़ सकती है। उन्होंने बताया कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल के दाम 108 डॉलर प्रति बैरल के आसपास चल रहे हैं।  दूसरी तरफ डॉलर तीन महीने में 46.50 रुपए से बढ़कर 49 रुपए के भाव पर पहुंच गया है। इससे तेल आयात की लागत और बढ़ गई है।

मुखर्जी ने कहा कि पेट्रोल पर कंपनियों को इस समय 1.50 रुपए प्रति लीटर का नुकसान हो रहा है और स्थानीय शुल्क आदि लगाकर यह नुकसान 1.82 रुपए प्रति लीटर हो जाता है। उन्होंने कहा ‘इस मुद्दे पर हम अन्य तेल कंपनियों के साथ बातचीत कर रहे हैं। हम इस सोच के साथ आगे बढ़ रहे हैं, हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि दाम कब बढाए जाएंगे।

Related Posts: