जयपुर. टीम इंडिया के विस्फोटक ओपनर वीरेन्द्र सहवाग का कहना है कि अगर वह क्रिकेटर नहीं होते तो जरूर किसान होते. यहां एक समारोह में सहवाग ने कहा कि मैं किसान परिवार से हूं, इसलिए अगर क्रिकेटर नहीं होता तो अपने पिता के साथ अपने गांव में खेतीबाड़ी में हाथ बंटाता.

समारोह में राजस्थानी पगड़ी बांधे हुए सहवाग ने अपने निजी और खिलाड़ी जीवन से जुड़ी कुछ रोचक बातें भी बताई. यकीन नहीं था दोहरा शतक बनाऊंगा. वनडे क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ व्यक्तिगत स्कोर 219 रन का रिकार्ड अपने नाम रखने वाले सहवाग ने कहा कि मुझे कभी यकीन नहीं था कि मैं यह उपलब्घि हासिल कर पाऊंगा. हमेशा यही कहा जाता था कि अगर वनडे में कोई दोहरा शतक लगाएगा तो वह शाहिद अफरीदी या फिर शेन वाटसन होगा. इंदौर में वेस्टइंडीज के खिलाफ खेली गई अपनी उस पारी को याद करते हुए सहवाग ने कहा कि सौ रन बनाने के बाद मुझे लगा कि अगर मैं दूसरा बैटिंग पावरप्ले अच्छे से खेल जाता हूं तो दोहरा शतक पक्का है. उस समय डेरेन सैमी ने भी मेरा कैच छोड़ा तो मुझे यकीन हो गया कि आज तो भगवान भी मेरे साथ है.

Related Posts: