शाहपुरा झील क्षेत्र से डेयरी हटेंगी

भोपाल, 6 जून,भोपाल नगर के समीप 784 एकड़ क्षेत्र में जल-संसाधन विभाग द्वारा बनाए गए हथाईखेड़ा डेम की सुरक्षा के लिए विभाग मुनारे के साथ आवश्यक सुरक्षा दीवार भी बनाएगा.

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग डेम में मिलने वाले गंदे नालों के जल-शुद्धिकरण के लिए ट्रीटमेंट प्लांट बनाएगा. नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री बाबूलाल गौर तथा पर्यावरण एवं जल-संसाधन मंत्री जयंत मलैया द्वारा भोपाल नगर के जल-क्षेत्रों के सौंदर्यीकरण एवं विकास की संयुक्त बैठक में यह जानकारी दी गई. गौर ने हथाईखेड़ा डेम में अतिक्रमण रोकने, सुरक्षा दीवार बनाने एवं डेम को मुख्य सड़क से जोडऩे, छोटे तालाब में मिलने वाले नालों को डायवर्ट करने, शाहपुरा झील क्षेत्र में बनीं डेयरियों को हटाकर वहाँ वृक्षारोपण करवाने और नगर के प्राचीन मोतिया तालाब स्थित धोबी घाट को अन्य जगह स्थानांतरित करने की आवश्यकता बतलाई. उन्होंने नगर के तालाबों के किनारे फुटपाथ निर्माण के साथ लाईटिंग की व्यवस्था करने के निर्देश अधिकारियों को दिए.

मलैया ने कहा कि हथाईखेड़ा डेम विभिन्न विभाग के सहयोग से एक अच्छा पर्यटन-स्थल बन सकता है. जल-संसाधन एवं पर्यावरण विभाग इसमें पूर्ण सहयोग करेगा. बैठक में जानकारी दी गई कि जिला प्रशासन शाहपुरा झील का आधिपत्य शीघ्र ही नगर पालिक निगम को सौंप देगा. पर्यटन विकास निगम हथाईखेड़ा डेम एवं छोटे तालाब स्थित नीलम पार्क में बोट-क्लब के साथ ही पर्यटकों के लिए अन्य सुविधाओं का विस्तार करेगा. सी.पी.ए. शाहपुरा झील क्षेत्र में वृक्षारोपण करेगा. लोक निर्माण विभाग और सी.पी.ए. हथाईखेड़ा डेम का एप्रोच रोड बनाएगा.
बैठक में कलेक्टर निकुंज श्रीवास्तव, नगर निगम आयुक्त लोक स्वास्थ्य अभियांत्रिकी आदि विभाग के अधिकारी उपस्थित थे.

Related Posts: