सुरक्षा एजेंसियों की परेशानी बढ़ी

नई दिल्ली, 5 फरवरी. माओवादियों के अंडर्वल्ड माफिया डान दाऊद इब्राहिम के साथ हाथ मिलाने की आशंका ने सुरक्षा एजेंसियों के कान खड़े कर दिये हैं. खुफिया एजेंसियों के सूत्रों ने बताया कि दाऊद के बारे में तैयार एक ताजा दस्तावेज में कहा गया है कि नक्सलियों के दाऊद से हाथ मिलाने की आशंका है.

नक्सलियों के कई बड़े नेता हाल ही में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड में मारे गये,जिसके बाद यह संभावना बढ़ी है. ‘यह काफी परेशान करने वाली बात है. नक्सलियों ने कई राज्यों में मजबूत नेटवर्क बना रखा है और वे खुद भी अवैध खनन एवं कोयला के कारोबार के जरिए धन कमाने में लिप्त हैं. ऐसे में यदि वे अंडर्वल्ड माफिया के साथ हाथ मिलाते हैं तो यह काफी विकट और खतरनाक गठजोड़ होगा. दाऊद की नजर केवल भारत में अवैध खनन एवं कोयला कारोबार पर ही नहीं है बल्कि वह कजाखस्तान, अजरबैजान और ताजिकिस्तान जैसे देशों के तेल एवं खनन कारोबार में भारी निवेश की योजना बना रहा है. इन देशों में निवेश को कानूनी रूप प्रदान करने के उद्देश्य से उसने कई कंपनियों का गठन किया है, जिनमें से कुछ नाम ज्यूपिटर फाइनेंस, न्यू स्टार इन्वेस्टमेंट और वहाब रिसोर्सेज हैं. ये कंपनियां पाकिस्तान के कराची, लाहौर और पेशावर से संचालित होती हैं.

समझा जाता है कि दाऊद इन कंपनियों के जरिए बहामा, साइप्रस, केमैन द्वीप, बरमूडा, लक्जमबर्ग और हांगकांग जैसे कर की पनाहगाह समझे जाने वाले देशों में भारी धन जमा कर रहा है. यहां से धन दाऊद के पसंदीदा कारोबार मसलन तेल एवं खनन कारोबार में लगाया जाता है ताकि लगे कि कानूनी रूप से निवेश हो रहा है. सूत्रों ने दावा किया कि ताजा खुफिया जानकारी से यह भी पता चला है कि दाऊद कजाखस्तान, अजरबैजान और ताजिकिस्तान में लगभग दो करोड़ डालर निवेश की योजना बना रहा है. उन्होंने बताया कि दाउद के बारे में जो ताजा खुफिया दस्तावेज तैयार किया गया है, वह विभिन्न एजेंसियों से मिली जानकारी और लगातार निगरानी के बाद बनाया गया है.

नई मोस्ट वांटेड सूची जारी

एनआई की मोस्ट वांटेड आतंकियों और अपराधियों की ताजा सूची में कम से कम आठ ऐसे आतंकी हैं, जिनके खिलाफ इंटरपोल ने रेड कार्नर नोटिस जारी किया है. सूची में समझौता एक्सप्रेस विस्फोट सहित देश के विभिन्न हिस्सों में विस्फोट की घटनाओं में शामिल आरोपी भगवा चरमपंथियों के नाम भी हैं. एक अधिकारी ने बताया कि एनआईए ने 28 वांछित अपराधियों की नई सूची तैयार की है, जिसमें अल कायदा से संबद्ध आतंकी इलियास कश्मीरी और लश्कर ए तैय्यबा का संस्थापक हाफिज मुहम्मद सईद शामिल हैं.

उल्लेखनीय है कि पाकिस्तान को पिछले साल मई में सौंपी गई मोस्ट वांटेड अपराधियों की सूची में खामियों के कारण काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था. एनआईए ने अब नई सूची तैयार की है, जिसमें न सिर्फ रेड कार्नर नोटिस वाले आतंकी बल्कि दो से लाख रुपये नकद ईनामी राशि वाले आतंकी और अपराधी भी शामिल हैं. अधिकारी ने बताया कि इलियास कश्मीरी की तलाश 2008 के मुंबई हमले सहित भारत में कई अन्य आतंकी हमलों के सिलसिले में तलाश है. उसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कार्नर नोटिस है. दिल्ली में सितंबर 2011 को हुए बम विस्फोट के सिलसिले में तीन आतंकियों की एनआईए को तलाश है, जो आमिर अली कमाल उर्फ अकरम, शाकिर हुसैन शेख और जुनैद अकरम मलिक हैं. इन सभी के बारे में पक्की सूचना मुहैया कराने वाले को एनआईए ने दस दस लाख रुपये नकद इनाम देने का ऐलान किया है. अधिकारी ने बताया कि मोस्ट वांटेड सूची में लश्कर संस्थापक हाफिज मुहम्मद सईद भी है, जो 2006 में मुंबई की ट्रेनों में हुए विस्फोटों और 2008 के आतंकी हमलों सहित भारत में हुए कई आतंकी हमलों में वांछित है. उसके खिलाफ भी रेड कार्नर नोटिस है.

उन्होंने बताया कि सूची में मुंबई आतंकी हमले की योजना बनाने वालों में प्रमुख साजिद मजीद का नाम है. उस पर आरोप है कि उसने 2008 के हमले को अंजाम देने वाले 10 आतंकियों को न सिर्फ प्रशिक्षण दिया बल्कि हमले के दौरान समय समय पर आवश्यक संदेश भी दिए. अधिकारी के मुताबिक 2007 के समझौता एक्सप्रेस विस्फोट के सिलसिले में एनआईए को जिन कथित दक्षिण चरमपंथियों की तलाश है, उनके नाम भी सूची में शामिल किए गए हैं. इस मामले में वांछित रामचंद्र कलसांगरा, संदीप डांगे, अशोक उर्फ प्रिंस, भावेश पटेल के नाम सूची में हैं. कलसांगरा के बारे में सूचना देने वाले को दस लाख रुपये जबकि डांगे, प्रिंस और पटेल के बारे में सूचना देने वाले को दो दो लाख रुपये इनाम एनआईए ने घोषित किया है. अधिकारी ने कहा कि सूची में 2007 के अजमेरशरीफ दरगाह में हुए विस्फोट के आरोपी मफत भाई उर्फ महेश भाई, सुरेश नायर और भावेश पटेल के नाम भी हैं. इन सभी के बारे में सूचना देने वाले को दो दो लाख रुपये इनाम देने का ऐलान एनआईए ने किया है. सूची में अब्दुर रहमान हाशिम उर्फ पाशा का नाम है, जिसके खिलाफ इंटरपोल का रेड कार्नर नोटिस है. ब्रह्मचारी मेयुम अंगोबी शर्मा, ब्रह्मचारी मेयुम गोपाल कृष्णा, जय प्रकाश उर्फ अन्ना, जयंती भाई गोहिल उर्फ उस्ताद, मेजर इकबाल उर्फ मेजर अली, मेजर समीर अली, मोहन उर्फ रूंकू, पी पी यूसुफ, प्रवीण लिमकर, रूद्र पाटिल, शौकत अली और वाई नबीचंद के नाम भी वांटेड सूची में हैं.

Related Posts:

चमत्कार से चुनाव जीतेंगे संगमा!
प्रणब का नामांकन रद्द हो
सुब्रमण्यम स्वामी का विवादित बयान: मस्जिद सिर्फ इमारत, कभी भी तोड़ा जा सकता है
मोदी ने नवनियुक्त मंत्रियों का संसद में कराया परिचय
नेशनल कांफ्रेंस और कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने जीएसटी पर विशेष सत्र को लेकर प्रदर्श...
आप हेलीकॉप्टर से कृत्रिम बारिश क्यों नहीं कराते