इंटेलिजेंस ब्यूरो की रिपोर्ट

मुंबई, 7 सितंबर. 11 अगस्त को मुंबई के आजाद मैदान में हुई हिंसा के पीछे अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम का हाथ था. इसमें पुलिस और मीडिया को निशाना बनाया गया था. यह जानकारी इंटेलिजेंस ब्यूरो ने राज्य सरकार को दी है.

गौरतलब है कि आजाद मैदान में हुई हिंसा के तुरंत बाद संदेह की सुई पाकिस्तान और उसकी खुफिया एजेंसी आईएसआई पर गई थी. यहां तक कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने भी आरंभ में कहा था कि संभव है कि हिंसा की योजना विदेशों में बनाई गई हो. लेकिन अभी तक दाऊद इब्राहिम के इसमें लिप्त होने का मामला सामने नहीं आया था. लेकिन अपुष्ट सूत्रों के मुताबिक अंतराष्ट्रीय टेलीफोनिक बातचीत की पड़ताल के बाद साफ हो गया है कि इस मामले में दाऊद गैंग का हाथ था. यह बातचीत मुंबई और पाकिस्तानी शहरों में रह रहे आतंकियों के बीच हुई थी.

खबर के अनुसार, आजाद मैदान की घटना पूरी तरह से योजनाबद्ध थी. इस घटना में कई लोग मारे गए थे और दर्जनों घायल हो गए थे. घायलों में मुख्य रूप से मीडियाकर्मी और पुलिसकर्मी शामिल थे. महाराष्ट्र पुलिस ने भी हाल में कहा था कि हिंसा के दौरान मुख्य रूप से मीडियाकर्मियों को निशाना बनाने की योजना थी. अंडरवर्ल्ड सरगना का मकसद रैली के दौरान आए लोगों को हिंसा के लिए इस तरह से उकसाना था, ताकि मुंबई तथा आसपास के इलाकों में साम्प्रदायिक हिंसा भड़क जाए.

Related Posts: