फाइनल के लिए जंग रात 8 बजे से

चेन्नई, 24 मई, ए. वीरेंद्र सहवाग की कप्तानी में दिल्ली डेयरडेविल्स और किस्मत के धनी महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपरकिंग्स की टीमें जब शुक्रवार को दूसरे क्वालीफायर में एक दूसरे के खिलाफ उतरेंगी तो उनका मकसद हर हाल में जीत दर्ज करके खिताबी जंग में जगह बनाना होगा.

प्लेऑफ में शीर्ष टीम के रूप में पहुंची दिल्ली को पहले क्वालीफायर में कोलकाता नाइटराइडर्स की टीम मे हाथों 18 रन से हार का सामना करके फाइनल के लिए दूसरे क्वालीफायर में भिडऩे के मजबूर होना पड़ा. दूसरी ओर एलिमिनेटर मैच में गत चैंपियन चेन्नई की टीम ने कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी (नाबाद 51) के विस्फोटक अर्धशतक और ड्वेन ब्रावो (नाबाद 33 रन और दस रन पर दो विकेट) के हरफनमौला खेल के दम पर मुंबई इंडियंस को 38 रन से हराकर दूसरे क्वालीफायर में जगह बना ली.

दिल्ली की टीम घायल शेर की तरह सेमीफाइनल में जीत दर्ज करने के लिए पूरा जोर लगा देगी ताकि फाइनल में केकेआर से हार का बदला चुकता कर सके जबकि जोश से लबरेज चेन्नई की टीम दिल्ली को मंसूबों को नाकाम करने और अपने खिताब को बचाने की होड में बने रहने के लिए पूरा दम लगाएगी. दिल्ली की टीम ने पुणे में केकेआर के खिलाफ कई गलतियां कीं जिसका खामियाजा उसे भुगतना पड़ा. कप्तान सहवाग इस बार स्पिनरों को मदद करने वाली पिच के लिए टीम में थोड़ा बदलाव कर सकते हैं. पहले क्वालीफायर में दिल्ली की बल्लेबाजी पूरी तरह फ्लॉप रही थी. माहेला जयवर्धने (40) को छोड़कर एक भी बल्लेबाज लंबी पारी नहीं खेल सका.

यदि टीम को मैच जीतना है तो जहां ओपनर वीरेंद्र सहवाग को अपने चिर परिचित अंदाज में खेलना होगा वहीं डेविड वॉर्नर को उनके साथ मिलकर टीम को ठोस शुरूआत देनी ही होगी. नमन ओझा बल्लेबाजी के मध्यक्रम को मजबूती देने के साथ स्पिनर की भी जिम्मेदारी निभा सकते हैं. वेणुगोपाल राव अब तक टूर्नामेंट में कोई खास प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं. उनकी जगह टीम में उन्मुक्त चंद या योगेश नागर को मौका दिया जा सकता है. ऑलराउंडर इरफान पठान का चोटिल हो जाना टीम के लिए बड़ा झटका है. यदि वह शुक्रवार के मैच के लिए फिट नहीं हो पाते हैं तो उनकी जगह टीम में शहबाज नदीम को जगह मिल सकती है.

मोर्न मोर्कल, उमेश यादव और वरुण एरन की तिकड़ी ही संभवत: तेज गेंदबाजी विभाग संभालेगी जबकि पवन नेगी स्पिनर की भूमिका निभा सकते हैं. दूसरी ओर चेन्नई की टीम ने एक बार फिर सही समय पर वापसी की है और वह दिल्ली के खिलाफ भी शानदार प्रदर्शन की पूरी कोशिश करेगी. किस्मत के सहारे प्लेऑफ में पहुंची चेन्नई की टीम ने धौनी की 20 गेंदों में छह चौकों और दो छक्के की मदद से खेली गई 51 रन की विस्फोटक पारी और ओपनर माइक हस्सी, 49, सुब्रमण्यम बद्रीनाथ 47, और ड्वेन ब्रावो नाबाद 33, की उपयोगी पारियों के सहारे पांच विकेट पर 187 रन का विशाल स्कोर बनाया और फिर मुंबई को नौ विकेट पर 149 रन पर रोक दिया.

मुरली विजय और माइकल हस्सी एक बार फिर पारी की शुरूआत कर सकते हैं. धौनी और बद्रीनाथ एक बार फिर लंबी पारी खेलने की कोशिश करेंगे. इस समय फॉर्म से बाहर चल रहे लेकिन खतरनाक सुरेश रैना दूसरे क्वालीफायर में उपयोगी पारी खेलने के लिए जोर लगाएंगे. ड्वेन ब्रावो और एल्बी मोर्कल ऑलराउंडर की भूमिका निभाएंगे. बेन हिल्फेनहॉस, आर अश्विन और रवींद्र जडेजा गेंदबाजी विभाग को मजबूती देंगे. दिल्ली की पूरी कोशिश रहेगी कि अब की बार फाइनल में जाने का मौका उसके हाथ से फिर फिसल न जाए. इसके लिए टीम को चेन्नई की चुनौती को ध्वस्त करने के लिए हर क्षेत्र में परफेक्ट प्रदर्शन करना होगा क्योंकि धोनी के धुरंधरों को धूल चटाना आसान नहीं होगा.

Related Posts: