जयपुर, 5 जनवरी. राजस्थान के चर्चित भंवरी देवी हत्याकांड के रहस्य से पर्दा हट गया है. भंवरी का शव ठिकाने लगाने के आरोपी कैलाश जाखड़ के बाद दो और लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

सीबीआई ने मामले में आरोपी भैरा राम और उसके बेटे को जालौडा से गिरफ्तार किया है. इन दोनों पर संदेह है कि इन्होंने भंवरी को जलाने के लिए लकड़ी पहुंचाई. जाखड़ की निशानदेही पर सीबीआई ने अब अपना पूरा ध्यान भंवरी के शव के अवशेष तलाशने में लगा दिया है. सीबीआई और पुलिस का संयुक्त दल जालौडा में भंवरी के शव को जलाने वाली जगह और उसके पास की मिट्टी में राख के कण तलाश रहा है. इससे पहले जांच एजेंसी ने भंवरी का शव ठिकाने लगाने के आरोपी कैलाश जाखड़ को गिरफ्तार किया था. जाखड़ ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि भंवरी का शव औसियां तहसील के जालौडा गांव में जला दिया गया है. इसी गांव की हवाई तस्वीरें पिछले दिनों सीबीआई ने ली थीं. आरोप है कि एक सितंबर को अपहरण के बाद सोहन लाल विश्नोई और शहाबुद्दीन ने भंवरी को कैलाश के सुपुर्द किया था. जिस स्कॉर्पियो से भंवरी को ले जाया गया था उसे कुछ समय पहले बरामद किया जा चुका है. सूत्रों के मुताबिक, कैलाश ने भंवरी को ठिकाने लगाने की बात कुबूल की है. उसने भंवरी को जलाने की बात मानी है.

Related Posts: