• सचिन शतकों के शतक से 33 कदम दूर

भारत ने दिया वेस्ट इंडीज को माकूल जवाब

मुंबई, 24 नवंबर. राहुल द्रविड़ (82) की अगुवाई में तीन शीर्ष बल्लेबाजों के अर्धशतकों की बदौलत भारत ने तीसरे टेस्ट मैच के तीसरे दिन वेस्टइंडीज के विशाल स्कोर का माकूल जवाब दिया है. हालांकि मेजबान टीम अभी भी पहली पारी के आधार पर 309 रन और पीछे हैं लेकिन चौथे दिन के खेल में सचिन तेंदुलकर (नाबाद 67) पर निगाहें होंगी जो अपने महाशतक से मात्र 33 रन दूर हैं.

भारत ने तीसरे दिन स्टंप तक तीन विकेट खोकर 281 रन बना लिए हैं. द्रविड़ के अलावा सचिन तेंदुलकर और गौतम गंभीर ने भी अर्धशतक जमाए. द्रविड़ ने गंभीर के साथ 71 और सचिन के साथ 84 रनों की साझेदारी निभाई. स्टंप उखडऩे के समय सचिन 67 और वीवीएस लक्ष्मण 32 रन बनाकर जमे हुए हैं और दोनों के बीच चौथे विकेट के लिए अब तक 57 रनों की साझेदारी हो चुकी है. इससे पूर्व डेरेन ब्रावो (166) की अगुवाई में बल्लेबाजों के दमदार प्रदर्शन की बदौलत वेस्टइंडीज ने पहली पारी में 590 रन बनाए थे. भारत अभी भी पहली पारी के आधार पर 309 रन पीछे हैं और उसके पास सात विकेट शेष हैं. सचिन सौवें अंतरराष्ट्रीय शतक से मात्र एक कदम दूर हैं. सचिन सीरीज में अब तक दो बार महाशतक से चूक गए हैं. सचिन के पास इस बार अपने होम ग्राउंड पर यह उपलब्धि रचने का मौका है. वहीं द्रविड़ ने अपनी अर्धशतकीय पारी के दौरान टेस्ट करियर के 13,000 रन पूरे करने के साथ इस साल के हजार रन भी पूरे कर लिए. द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट में 13 हजार रन बनाने वाले सचिन के बाद दुनिया में दूसरे बल्लेबाज हैं.  इससे पहले कैरबियाई टीम को तीसरे दिन की शुरुआत में ही 590 रनों पर समेटने के बाद भारत ने लंच तक वीरेंद्र सहवाग (37) के रूप में एक विकेट खो दिया था. इसके बाद गंभीर (55) और द्रविड़ ने पारी को आगे बढ़ाया. दोनों ने मिलकर स्कोर 138 रनों तक पहुंचाया. गंभीर रवि रामपाल की गेंद पर कार्लटन बॉ को कैच थमाकर पवेलियन लौटे. तेंदुलकर के बाद टेस्ट क्रिकेट में 13,000 का आंकड़ा छूने वाले द्रविड़ दुनिया के दूसरे बल्लेबाज बने. इससे पहले भारतीय टीम को सहवाग और गंभीर ने एक बार फिर अच्छी शुरुआत दिलाई लेकिन एक बार फिर सहवाग बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे.

और 37 रन बनाकर डेरेन सैमी की गेंद पर क्लीन बोल्ड हो गए. सहवाग ने 50 गेंदों पर तीन चौके और एक छक्के की मदद से 37 रन बनाए. सहवाग के आउट होने के बाद भारत का रन रेट धीमा हो गया. गंभीर का साथ देने पहुंचे द्रविड़ को अपना खाता खोलने के लिए 15 गेंदों तक इंतजार करना पड़ा लेकिन एक बार खाता खोलने के बाद द्रविड़ ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और पहले गंभीर और उसके बाद तेंदुलकर के साथ मिलकर भारत की पारी को आगे बढ़ाया. गंभीर और द्रविड़ ने दूसरे विकेट के लिए 71 रनों की भागीदारी निभाई. गंभीर अपने लंच के स्कोर में केवल एक रन ही जोड़ पाए थे कि सैमी की गेंद पर कैच आउट होने से चूक गए. किर्क एडवर्ड्स इस कैच को नहीं लपक सके और तब टीम का स्कोर एक विकेट पर 87 रन था. गंभीर ने एडवर्ड्स की गेंद पर स्ट्रेट ड्राइव से चौका लगाकर 26वें ओवर में पारी के 100 रन पूरे कराए. इसके बाद उन्होंने सैमी की गेंद पर अपनी पारी का सातवां चौका जमाकर 89 गेंद में 44वें टेस्ट में अपना 18वां अर्धशतक पूरा किया. द्रविड़ के रूप में भारत का तीसरा विकेट गिरा. वह सैमुअल्स की गेंद पर बोल्ड हुए. इसके बाद सचिन और लक्ष्मण ने आज कोई और झटका नहीं लगने दिया.

पहली पारी में शीर्ष छह बल्लेबाजों के 50 से अधिक स्कोर और डेरेन ब्रावो की शानदार 166 रनों की पारी के दम पर विंडीज 590 रनों तक पहुंचा. पहला टेस्ट मैच खेल रहे वरुण आरोन ने पहली पारी में तीन विकेट झटके. इससे पहले भारत ने तीसरे दिन विंडीज पारी को 590 रनों पर समेटा. नौ विकेट पर 575 रनों के आगे खेलते हुए मेहमान टीम तीसरे दिन 15 रन और जोड़ सकी. आर अश्विन ने देवेंद्र बिशू (12) का विकेट चटकाकर पहली पारी में पांच विकेट झटके. फीडेल एडवर्ड्स 11 रन बनाकर नाबाद लौटे.

Related Posts: