गिरावट के दौर में वृद्धि गर्व की बात

भोपाल,1 जून, नभासं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आज कहा कि जहां एक तरफ देश की आर्थिक विकास दर में गिरावट आ रही है, तो दूसरी तरफ मध्यप्रदेश में यह दर बढकर लगभग 10 प्रतिशत होना गर्व की बात है.

मुख्यमंत्री ने मंत्रालय में आयोजित पत्रकार वार्ता में बताया कि प्रदेश की विकास दर 10.2 प्रतिशत हो चुकी है और अब कृषि की विकास दर में मप्र ने देश की विकास दर से सात फीसदी ज्यादा वृद्धि हासिल कर ली है. इस वर्ष प्रदेश 10 प्रतिशत से भी अधिक कृषि विकास दर हासिल कर लेगा. वहीं गेहूं के उत्पादन में मप्र पंजाब के बाद हरियाणा के साथ दूसरे नंबर पर है. उन्होंने कहा कि देश की आर्थिक विकास दर घटने के दौरान मध्यप्रदेश की यह दर बढने से हमारा राज्य देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की कृषि विकास दर लगभग 9 प्रतिशत हो गई है. जबकि देश की कृषि विकास दर मात्र दो प्रतिशत है.उन्होंने कहा कि इस वर्ष प्रदेश की कृषि विकास दर डबल डिजिट यानि 10 प्रतिशत से अधिक होने की संभावना है.मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि विकास दर का यह प्रतिशत प्राप्त करने वाले देश के तीन राज्यों में मध्यप्रदेश भी शामिल हो गया है. चौहान ने एक सवाल के जवाब में कहा कि प्रदेश के राजमार्गो की खस्ता हाल के संबंध में केन्द्र सरकार के संबंधित मंत्रियों से कई बार चर्चा और आंदोलन करने के बाद राज्य के छह राजमार्गो को बनाने की स्वीकृति केन्द्र ने प्रदान कर दी है. साथ ही राजमार्गो की मरम्मत का कार्य भी राज्य सरकार द्वारा प्रारंभ किया गया है. इस कार्य की राशि केन्द्र सरकार से मांगी जायेगी और यदि केन्द्र यह राशि नही देगी तो भी यह कार्य किया जायेगा.
मुख्यमंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने हाल ही में समर्थन मूल्य पर गेंहू खरीदी के लिए हम्माली और बारदानों की सिलाई की करीब 76 करोड रूपये की राशि मध्यप्रदेश को देने से इंकार कर दिया है जिसे राज्य सरकार द्वारा केन्द्र से मांगा जायेगा और इस संबंध में केन्द्रीय राज्य मंत्री के.व्ही.थामस को उनके द्वारा कल पत्र प्रेषित किया गया है.

Related Posts: