उत्कृष्ट शिक्षकों का सम्मान किया गया

भोपाल, 18 सितंबर, नभासं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शिक्षकों का आहवान किया कि वे समाज को इस प्रकार की शिक्षा दें कि बच्चे ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कारों को अपना सकें .मुख्यमंत्री आईसेक्ट द्वारा आयोजित उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान समारोह को संबोधित कर रहे थे. कार्यक्रम में उन्होंने उत्कृष्ट शिक्षकों का सम्मान किया.

चौहान ने कहा कि गुरू की महिमा अनन्त है. गुरू मनुष्यों का निर्माण करते हैं. शिक्षक चाहे तो किसी के भी जीवन को निखार सकता हैं. शिक्षा के माध्यम से सामाजिक बुराइयों को दूर किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि जीवन में उच्च आदर्श होना चाहिये पर व्यक्ति आदर्श जीवन के बारे में भोजन, वस्त्र, आवास जैसी मूलभूत जरूरतों से निश्चिंत होकर ही सोच सकता है. बेहतर जीवन स्तर देना प्रत्येक सरकार का धर्म है. मध्यप्रदेश में विकास का प्रकाश आम आदमी तक पहुँचे, ऐसे प्रयास किये जा रहे हैं. शिक्षा के मार्ग में पैसा बाधक नहीं बने इसके लिये राज्य सरकार ने प्रतिभाशाली बच्चों के लिये उच्च शिक्षा गारंटी योजना बनायी है. इसमें उन्हें साढ़े चार लाख रूपये तक का ऋण उपलब्ध करवाया जाता है.

इस अवसर पर सीएम ने केद्रीय विद्यालय क्रम 1 भोपाल की माधुरी राजगुरु को उत्कृष्ट शिक्षक सम्मान से पुरस्कृत किया जिनका विषय का परिणाम पिछले दस वर्षों से सौ फीसदी आता रहा है.आईसेक्ट यूनिवर्सिटी के कुलाधिपति संतोष चौबे ने स्वागत भाषण दिया. आईसेक्ट अवार्ड, पंकज कुमार दास को स्पोर्टस अवार्ड और सुश्री सादमा शमशाद को युवा उत्कृष्ट शिक्षक का अवार्ड दिया गया. साथ ही आईसेक्ट नॉलेज ओलम्पियाड के विजेताओं मीनल शर्मा, अंशी जैन, आशुतोष अग्रवाल और फरहीन अंजुम का भी सम्मान किया गया.

Related Posts: