इस्लामाबाद, 5 अप्रैल. पुख्ता सबूत की कमी के कारण लश्कर-ए-तैयबा के संस्थापक हाफिज मोहम्मद सईद के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर सकने की बात पर जोर देते हुए पाकिस्तान ने आज कहा कि यहां तक कि अमेरिका के पास भी ऐसे प्रमाण नहीं हैं जिससे जमात-उद-दावा प्रमुख के तार आतंकवाद से जोड़े जा सकें.

विदेश कार्यालय के प्रवक्ता अब्दुल बासित ने कहा कि यह बड़ी अजीब बात है कि अमेरिकी विदेश विभाग ने सईद और उनके नायब अब्दुल रहमान मक्की से जुड़े सबूत और सूचना के लिए लाखों डॉलर के इनाम का ऐलान किया है. बासित ने कहा कि अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता की ओर से कल इनाम के बाबत दी गई सफाई से यह स्पष्ट हो गया कि अमेरिका के पास भी दोनों लोगों के खिलाफ सबूत नहीं हैं. साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में बासित ने कहा, ‘हमने साफ तौर पर अपनी स्थिति जाहिर कर दी है कि सईद के खिलाफ कोई पुख्ता सबूत नहीं है. कानूनी प्रक्रिया शुरू करने के लिए पाकिस्तान चाहेगा कि ठोस प्रमाण हों लेकिन इनके अभाव में हम कुछ नहीं कर सकते.’ गौरतलब है कि अमेरिका ने सईद के लिए एक करोड़ अमेरिकी डॉलर का इनाम घोषित किया है जबकि मक्की के लिए 20 लाख डॉलर के इनाम का ऐलान किया गया है. हाफिज को 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले के लिए जिम्मेदार माना जाता है.

Related Posts: