आईपीएल की तैयारियां टीम इंडिया के खिलाड़ी अब तैयार

कार्डिफ, 14 सितंबर. टीम इंडिया के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी सीनियर खिलाडिय़ों को यादगार विदाई देने के लिए जाने जाते हैं. दीवार के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ शुक्रवार को करियर का आखिरी अंतरराष्ट्रीय वनडे मैच खेलेंगे, ऐसे में माना जा रहा है कि कैप्टन कूल धोनी उन्हें भी अपने अलग अंदाज में विदाई दे सकते हैं.

धोनी ने 2008 में पूर्व कप्तानों सौरव गांगुली और अनिल कुंबले को यादगार विदाई दी थी. कुंबले के उत्तराधिकारी चुने गए धोनी ने अपने इस कप्तान को उनके अंतिम टेस्ट के बाद अपने कंधे पर उठा लिया था. उन्होंने इसके बाद सुनिश्चित किया कि भारत का सबसे सफल गेंदबाज सीरीज 2-0 से जीतने के बाद ट्राफी उठाने के लिए पोडियम पर मौजूद रहे. नागपुर में गांगुली के अंतिम टेस्ट के दौरान उन्होंने अपने इस पूर्व कप्तान को आस्ट्रेलिया के खिलाफ कुछ देर के लिए टीम की कमान संभालने का मौका दिया था. द्रविड़ अपनी अंतिम वनडे सीरीज में अब तक यादगार पारी खेलने में विफल रहे हैं और उन्होंने चार मैचों में केवल 13.75 की औसत से 55 रन बनाए हैं. इस दिग्गज ने अपने करियर में 343 वनडे में 39.06 की औसत से 10,820 रन बनाए हैं. द्रविड़ टेस्ट क्रिकेट में दूसरे सबसे सफल बल्लेबाज हैं, लेकिन वनडे मैचों में भी उनका प्रदर्शन खराब नहीं है. वह वनडे में सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में सातवें स्थान पर हैं. ब्रायन लारा और महेला जयवर्धने जैसे स्टार खिलाड़ी इस सूची में उनसे पीछे हैं.

यह पहला और आखिरी मौका होगा जब द्रविड़ वेल्स की राजधानी में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे. धोनी ने अपने करियर दौरान अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने वाले सीनियर क्रिकेटरों के सम्मान में हमेशा कुछ न कुछ किया है. भारत के अप्रैल में विश्व कप जीतने के बाद धोनी और उनकी टीम ने सचिन तेंदुलकर को अपने कंधे पर उठाकर मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में ‘विक्ट्री लैप’ लगाया था लेकिन जहां तक द्रविड़ का सवाल है तो यह विडंबना ही है कि 2007 में आस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के दौरान धोनी ने ही उन्हें वनडे टीम से बाहर करवाने में अहम भूमिका निभाई थी. द्रविड़ ने इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज के लिए भारतीय टीम में वापसी करने के तुरंत बाद ही वनडे क्रिकेट से संन्यास लेने की घोषणा कर दी थी.

कप्तानी से ब्रेसनेन को नहीं परहेज
लंदन, 14 सितंबर. इंग्लैंड के हरफनमौला खिलाड़ी टिम ब्रेसनेन राष्ट्रीय क्रिकेट टीम की कप्तानी करने के लिए तैयार हैं. ब्रेसनेन का कहना है कि टी-20 टीम या क्रिकेट के किसी भी प्रारूप में कप्तान के तौर पर वह एक सही विकल्प हैं. टी-20 टीम के कप्तान स्टुअर्ट ब्राड के कंधे की मांसपेशियों में खिंचाव की वजह से बाहर होने के बाद इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के चयनकर्ताओं को वेस्टइंडीज के साथ आगामी दो टी-20 मुकाबलों के लिए टीम का नया कप्तान चुनना है.

26 वर्षीय ब्रेसनेन के मुताबिक- क्रिकेट के किसी भी प्रारूप में इंग्लैंड की कप्तानी करना गर्व की बात होगी. अगर मुझे कप्तान बनाया जाता है तो मुझे इससे खुशी होगी. टी-20 टीम के उप कप्तान इयोन मोर्गन भी कंधे की समस्या से परेशान हैं और वह टीम से बाहर हैं. ऐसे में ब्रेसनेन को कप्तानी सौंपे जाने की संभावना काफी ज्यादा है. ब्रेसनेन ने भारत के खिलाफ मौजूदा दौरे पर शानदार प्रदर्शन किया है. इंग्लैंड इस समय एकमात्र ऐसी टीम है, जिसके क्रिकेट के तीन अलग-अलग प्रारूपों के लिए तीन कप्तान हैं. एंड्रयू स्ट्रास टेस्ट टीम के कप्तान हैं, एलिस्टेयर कुक के हाथों में वनडे टीम की कमान है, जबकि ब्राड टी-20 टीम का नेतृत्व करते हैं.

गंभीर बाहर, कैलिस को कमान
कोलकाता. भारत के इंग्लैंड दौरे में घायल हुए कोलकाता टीम के कप्तान गौतम गंभीर चैम्पियंस लीग ट्वेंटी-20 टूर्नामेंट के 18 और 21 सितम्बर को होने वाले क्वालीफाइंग मैचों में नहीं खेल पाएंगे.कोलकाता टीम के निदेशक जाय भट्टाचार्य ने यहां जारी एक विज्ञप्ति में बताया कि गंभीर की जगह दक्षिण अफ्रीका के ऑलराउंडर जैक्स कैलिस टीम की कप्तानी करेंगे. गंभीर इंग्लैंड से लौटने के बाद दिल्ली के एक शीर्ष न्यूरोलाजिस्ट से अपनी चोट के बारे में सलाह मशाविरा कर रहे हैं. डॉक्टर गंभीर की प्रगति से संतुष्ट है.इस बीच हैदराबाद में एक अभ्यास मैच में कोलकाता ने मेजबान हैदराबाद एकादश को पांच विकेट से हरा दिया. कोलकाता टीम ने 131 रन का लक्ष्य कप्तान यूसुफ पठान की 53 रन की विस्फोटक पारी से हासिल कर लिया. पठान ने मात्र 38 गेंदों में तीन चौकों और चार छक्कों की मदद से मैच विजयी पारी खेली.
हैदराबाद का छह विकेट पर 130 रन का स्कोर कोलकाता टीम ने 15.2 ओवर में ही पार कर लिया.

Related Posts: