विद्युत क्षेत्र के सुधार कार्यों की लक्ष्य पूर्ति समय-सीमा में हो

भोपाल,14 सितंबर. ऊर्जा राज्य मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा है कि आगामी रबी मौसम में किसानों को सिंचाई के लिये सुचारु विद्युत प्रदाय में किसी भी प्रकार की लापरवाही तथा कोताही बर्दाश्त नहीं की जायेगी.

मैदानी अधिकारी इसके लिये की जा रही तैयारियों पर नजर रखें. इसमें आ रही परेशानियों को यथा-समय दूर किया जाये. उन्होंने कहा कि ऊर्जा संकल्प-2013 की पूर्ति के लिये विद्युत अधोसंरचना के लिये चल रहे निर्माण कार्यों के भौतिक लक्ष्यों की पूर्ति समय-सीमा में सुनिश्चित की जाये. ऊर्जा राज्य मंत्री ने कहा कि वे अगले माह से हर जिले में अधोसंरचना कार्यों की समीक्षा तथा समस्याओं का मौके पर निदान भी करेंगे. शुक्ल आज यहाँ मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी की एक दिवसीय कान्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे.

इस अवसर पर फीडर सेपरेशन, राजीव गाँधी ग्रामीण विद्युतीकरण, आर.एपीडीआरपी तथा अन्य योजना में चल रहे निर्माण कार्यों की विशेष रूप से समीक्षा की गई. कान्फ्रेंस में विद्युत सुधार के क्षेत्र में चल रहे कार्यों में आने वाली परेशानियों का समाधान भी किया गया. शुक्ल ने कहा कि इस प्रकार की कान्फ्रेंस का फायदा मैदानी क्षेत्र के निचले स्तर तक के अधिकारियों को पहुँचता है तथा कार्यों में गति आती है. उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 से ग्रामीण क्षेत्रों के घरेलू उपभोक्ताओं को 24 घंटे तथा सिंचाई के लिये 8 घंटे गुणवत्तापूर्ण विद्युत आपूर्ति करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में है. उन्होंने कहा कि सभी योजनाओं में चल रहे कार्यों में उदासीनता तथा लापरवाही किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं की जायेगी. शुक्ल ने कहा कि इस बात का खासतौर से ध्यान रखा जाये कि फीडर विभक्तिकरण तथा अन्य कार्यों के भौतिक तथा वित्तीय लक्ष्यों की पूर्ति समय पर हो. ऊर्जा सचिव मोहम्मद सुलेमान ने कहा कि इस साल के तीन माह शेष बचे हैं.

इसके मद्देनजर मैदानी क्षेत्र में कार्यरत अधिकारियों को राज्य शासन की मंशा के अनुरूप लक्ष्यों की पूर्ति के लिये पूरी लगन, मेहनत, निष्ठा तथा ईमानदारी से कार्य करना होगा. प्रबंध संचालक मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी नीतेश व्यास ने कम्पनी क्षेत्र अंतर्गत विद्युत विकास के कार्यों की जानकारी देते हुए प्रगति से अवगत करवाया.

Related Posts: