नई दिल्ली, 19 जुलाई.  देश के 14वें राष्ट्रपति के लिए गुरुवार को मतदान संपन्न हो गया. राष्ट्रपति चुनाव में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, लोकसभा में विपक्ष की नेता सुषमा स्वराज और लालकृष्ण आडवाणी सहित सांसदों और विधायकों ने अपना वोट डाला.

इसके साथ ही यूपीए के प्रत्याशी प्रणब मुखर्जी और भाजपा समर्थित उम्मीदवार पीए संगमा के भाग्य का फैसला मतपेटियों में बंद हो गया. राज्यसभा सचिवालय ने सुचारु तौर पर मतदान कराने के लिए सभी जरूरी इंतजाम किए थे. चुनाव के नतीजे 22 जुलाई को आएंगे. राष्ट्रपति पद के लिए संप्रग उम्मीदवार प्रणब मुखर्जी को समर्थन का ऐलान कर चुके सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने आज राष्ट्रपति चुनाव के लिए मतपत्र पर गलती से पीए संगमा के नाम के आगे मुहर लगा दी. दूसरी तरफ गुजरात में क्रॉस वोटिंग करने वाले विधायक कानू कलसारिया है जो भाजपा से हैं और वे नरेंद्र मोदी के विरोधी माने जाते हैं. माना जा रहा है कि इसी वजह से उन्होंने पार्टी लाइन के उलट प्रणब मुखर्जी को वोट दिया है. खुद कानू ने स्वीकार किया है कि उन्होंने प्रणब को वोट किया है.

227 विधायकों, एक सांसद ने डाला वोट

भोपाल, 19 जुलाई, नभासं.राष्ट्रपति चुनाव के लिए आज राज्य विधानसभा के 227 सदस्यों और एक सांसद ने मतदान किया विधानसभा परिसर के इंदिरा गांधी सभागृह में बनाये गए मतदान कक्ष में राष्ट्रपति चुनाव के लिए विधानसभा के 228 विधायकों में से 227 ने और एक सांसद नरेन्द्र सिंह तोमर ने मतदान किया.

रीवा जिले के भाजपा विधायक नागेन्द्र सिंह गुढ़ ने मतदान नही किया जबलपुर शहर के पश्चिम क्षेत्र के भाजपा विधायक हरेन्द्र सिंह बब्बू बीमार होने के कारण व्हील चेयर पर और धार जिले के मनावर से कांग्रेस विधायक राजवर्द्धन सिंह एवं डिंडोरी जिले के शहपुरा की कांग्रेस विधायक श्रीमती गंगाबाई उरैती बैसाखी से मतदान करने आई. विधानसभा अध्यक्ष ईश्वरदास रोहाणी और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सबसे पहले मतदान किया मतदान करने वालों प्रमुख रूप से मंत्री बाबूलाल गौर राघवजी नरोत्तम मिश्रा,कैलाश विजयवर्गीय,गोपाल भार्गव,लक्ष्मीकांत शर्मा,अजय विश्नोई विधानसभा उपाध्यक्ष हरवंश सिंह,नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह,कांग्रेस विधायक दल के मुख्य सचेतक एन.पी. प्रजापति शामिल रहे भाजपा, कांग्रेस,बहुजन समाज पार्टी  सपा और निर्दलीय सदस्यों ने भी मतदान में भाग लिया.

मतदान के दौरान मंत्रियों भाजपा और कांग्रेस सदस्यों में कल सदन में अपनी सदस्यता गवाने वाले चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी और सुश्री कल्पना परूलेकर के मतदान के अधिकार को लेकर और मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय जबलपुर में इस मामले की याचिका पर सुनवाई होने की चर्चा चलती रही. उल्लेखनीय है कि कल सदन की सदस्यता गंवाने वाले कांग्रेस के विधायक चौधरी राकेश सिंह चतुर्वेदी और सुश्री कल्पना परूलेकर मतदान में हिस्सा नहीं ले पाये विधानसभा सचिवालय ने दोनों विधायकों की सदस्यता समाप्त करने की सूचना कल ही केन्द्रीय निर्वाचन आयोग को भेज दी थी आयोग ने तत्काल राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी को सूचित कर दिया था कि यह दोनों नेता मतदान नहीं कर सकेंगे और इनके विधानसभा क्षेत्र क्रमश: भिंड और महिदपुर रिक्त घोषित कर दिए गए हैं

Related Posts: