लंदन ओलंपिक्स भारतीय बैडमिंटन खिलाडिय़ों की अगुवाई

नई दिल्ली, 9 जुलाई. विश्व की पांचवें नंबर की खिलाड़ी सायना नेहवाल 27 जुलाई से लंदन में शुरू होने वाले खेलों के महाकुंभ में हिस्सा लेने वाली भारतीय बैडमिंटन खिलाडिय़ों के पांच सदस्यीय दल की अगुवाई करेंगी.

1992 में बैडमिंटन को ओलंपिक खेलों में शामिल किये जाने के बाद से भारत की ओर से ओलंपिक में हिस्सा लेने वाला यह अब तक का सबसे बड़ा दल है. सायना ने पिछले चार वर्षों में पांच सुपर सीरीज खिताब जीते हैं.उन्होंने 2009-2010 और 2012 में इंडोनेशिया, 2010 में सिंगापुर और 2010 में ही हांगकांग में सुपर सीरीज जीती. गत वर्ष वह मलेशिया सुपर सीरीज, इंडोनेशिया सुपर सीरीज और सुपर सीरीज मास्टर्स के फाइनल में पहुंची थी.

सायना ने इसके अलावा 2009 में राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण और इंडियन ओपन ग्रांप्री 2010 में इंडियन ओपन ग्रांप्री 2011 और 2012 में स्विस ओपन ग्रांप्री में स्वर्ण जीता है. भारत के पूर्व मुख्य बैडमिंटन कोच सैयद मोहम्मद आरिफ ने कहा है कि लंदन ओलंपिक में सायना पदक की सबसे बड़ी दावेदार हैं. सायना ओलंपिक में कौन सा पदक जीतती हैं, यह उस दिन के खेल से ही तय होगा. आरिफ ने कहा पुरूष एकल में पी कश्यप के लिए मुकाबला संघर्षपूर्ण होगा. अगर वह ओलंपिक में  पदक जीतते हैं तो यह भारत के लिए बोनस होगा क्योंकि पुरूषों में मुकाबला बहुत मुश्किल होता है. उन्हें न सिर्फ अच्छा खेलना होगा बल्कि भाग्य को भी उनके ही पक्ष में रहना होगा तभी वह पदक जीत सकते हैं.

Related Posts: