बेन के साथ हो सकती है जेल!

लंदन 2 नवंबर. पाकिस्तान टीम के खिलाडिय़ों सलमान बट और आसिफ को मैच फिक्सिंग का दोषी पाते हुए उन पर बेन और जेल की सजा का आज ऐलान किया जा सकता है, जिसमें उन्हें बेन के अंतर्गत 12 साल और जेल के अंतर्गत 2 से लेकर 7 साल की सजा का फरमान सुनाया जा सकता है.

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान एलेन बॉर्डर, पूर्व तेज गेंदबाज डेमियन फ्लेमिंग और मौजूदा कप्तान माइकल क्लार्क ने पाकिस्तान के दो क्रिकेटरों सलमान बट्ट और मोहम्मद आसिफ को स्पॉट पिक्सिंग में दोषी ठहराए जाने के फैसले का स्वागत किया है. बॉर्डर ने फाक्स स्पोर्ट्स से कहा कि यदि क्रिकेट को भ्रष्टाचार से मुक्त कराना है तो मैच फिक्सरों को जेल की सजा दिलानी होगी. उन्होंने कहा, यह मामला क्रिकेट पर एक काले धब्बे की तरह है ओर इसमें सख्त सजा दिए जाने की जरूरत है. पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, जो तथ्य सामने आए हैं उससे क्रिकेट में फैले भ्रष्टाचार को दूर करने में मदद मिलेगी. यदि आप युवा खिलाड़ी हैं और यदि आप इस तरह आगे बढऩा चाहते हैं तो आपको अपने करियर के बारे में दोबारा सोचना होगा.

पूर्व ऑस्ट्रेलियाई तेज गेंदबाज फ्लेमिंग ने बॉर्डर के विचारों का समर्थन करते हुए कहा कि मोहम्मद आमेर जैसे युवा खिलाड़ी का स्पॉट फिक्सिंग में शामिल होना इस मामले का सबसे दुखद पहलू है. फ्लेमिंग ने कहा, पहले भी क्रिकेटर मैच फिक्सिंग या स्पॉट फिक्सिंग को लेकर निलम्बित हुए थे मगर वे फिर किसी तरह क्रिकेट में लौट आए थे, लेकिन मैच फिक्सरों और स्पाट फिक्सरों को रोकने के लिए जेल की सजा जरूरी है. पूर्व कप्तान सलमान बट और मोहम्मद आसिफ के स्पाट फिक्सिंग में दोषी पाए जाने के बाद अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद पाकिस्तानी खिलाडिय़ों अकमल बंधुओं कामरान व उमर और वहाब रियाज के खिलाफ नए सिरे से जांच शुरू कर सकती है.

समाचार पत्र की रिपोर्ट के अनुसार कल साउथवर्क क्राउन कोर्ट ने बट और आसिफ को दोषी ठहराया जिसके आधार पर विकेटकीपर कामरान और बाएं हाथ के तेज गेंदबाज रियाज के खिलाफ नए सिरे से भ्रष्टाचार निरोधक जांच की जा सकती है. इस पूरे विवाद के दौरान इन दोनों के नाम भी आते रहे हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि फिक्सिंग में लिप्त तीन पाक क्रिकेटरों की जांच के दौरान पुलिस अधिकारियों ने जो सबूत जुटाए हैं, अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद उनकी गहराई से जांच करेगी.

पाकिस्तानी क्रिकेटर सलमान बट्ट और मोहम्मद आसिफ के दोषी करार दिए जाने के फैसले पर भारतीय कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने कहा कि यदि अगर आप बुरा करते हैं तो बुरा होना तय है.  धोनी ने कहा कि देश को नुमाइंदगी करने वाले किसी शख्स पर ऐसे आरोप सही साबित होते हैं तो उस पर कड़ी कारवाई होनी चाहिए.  गौरतलब है कि लंदन की अदालत ने बट्ट और आसिफ को स्पॉट फिक्सिंग का दोषी पाया है. सजा की घोषणा होने तक इन दोनों क्रिकेटरों को जमानत मिली हुई है. कानून के जानकारों का मानना है कि इन्हें 2 से लेकर 7 साल तक की सजा हो सकती है.

Related Posts: