मध्यप्रदेश में चल रही तेज और राज्य भर मे व्यापक वर्षा ने सभी जगह बाढ़ की स्थिति पैदा कर दी. परेशानी इससे और बढ़ गई है कि मौसम विभाग ने अगले 48 घंटे  (दो दिन) और भी भारी वर्षा की चेतावनी दी है. सारंगपुर के पास आगरा मुंबई राष्ट्रीय राजमार्ग पर बना पुल टूट गया. लंबी दूरी का यातायात प्रभावित हो गया. लगभग सभी नदी नाले उफान पर आ गये है. सड़कें टूट जाने से लगभग हर शहर एक-दूसरे के संपर्क से कट गया है. भारी वर्षा की चेतावनी को ध्यान रखते हुए राज्य शासन ने राज्य में ‘फ्ल्ड अलर्ट’ घोषित कर दिया है.

शाजापुर जिले में हेलीकाप्टर वायुसेना की मदद से लोगों को बचाना पडï. कई गांवों को खाली कराना पड़ा. हरदा, उज्जैन, शाजापुर जिलों में हजारों लोगों को राहत कैम्पों में भेजा गया है. अभी तक सोयाबीन की फसल को वर्षा का इंतजार था, लेकिन अब बाढ़ में उसे काफी नुकसान पहुंचने लगा है. खेतों में पानी भर गया है. भिंड जिलों को उत्तर प्रदेश के इटावा में जोडऩे वाला पुल भी टूट गया है. अभी तक तो सड़क टूटने की खबरें हर बरसात में आती ही थीं, लेकिन बार पुल टूटने के भी समाचार आ रहे हैं. सड़क यातायात इसकी वजह से मार्ग बदल कर लंबी दूरी में आगे बढ़ रहे हैं. इससे उन सड़कों पर ज्यादा दबाव आ गया है जहां से भारी यातायात नहीं होता है. वे सड़कें भी इसके कारण ज्यादा टूट-फूट में आ गई हैं. बाढ़ उतरने के बाद भी इन्हें सामान्य करने में काफी समय लग जायेगा.

संस्थापक : स्व. रामगोपाल माहेश्वरी
प्रधान संपादक : श्री प्रफुल्ल माहेश्वरी

Related Posts: