इंदौर-भोपाल में लोकायुक्त छापे

नवभारत टीम
इंदौर, 28 मार्च. प्रदेश में करोड़पति सरकारी कारिंदों की सूची में इजाफे का सिलसिला जारी है. पुलिस के लोकायुक्त दस्ते ने इंदौर जिले में पदस्थ एक पटवारी के ठिकानों पर बुधवार को छापे मारे और उसकी बेहिसाब संपत्ति का खुलासा किया. इस संपत्ति का मूल्य करीब ढाई करोड़ रुपये आंका जा रहा है.

छापों के दौरान दो मकान, 29 बीघा कृषि भूमि, दो डम्पर, एक अर्थमूविंग मशीन, दो चारपहिया वाहन और दो दोपहिया गाडिय़ां शामिल हैं. यादव ने बीमा पॉलिसियों में करीब 80 हजार रुपये का निवेश किया है, बैंक खातों में लगभग साढ़े चार लाख रुपये जमा हैं. सिंह ने बताया कि पटवारी के ठिकानों से करीब साढ़े सात लाख रुपये के सोने.चांदी के जेवरात मिले, जबकि उसके जुटाये घरेलू सामान की कीमत तकरीबन 16 लाख रुपये है.

रिश्वत लेते धराए

रतलाम. लोकायुक्त उज्जैन की टीम ने मंगलवार की रात जिला खाद्य अधिकारी बी. के. कोष्ठा को 15 हजार रूपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों गिरफ्तार किया.

उज्जैन. लोकायुक्त टीम ने कार्रवाई करते हुए  नापतौल विभाग उज्जैन में पदस्थ निरीक्षक दीपशिखा नागले निवासी नानाखेड़ा को 35 हजार रूपए रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों पकड़ा.

पांच करोड़ का है विद्युत मंडल का इंजीनियर

भोपाल में एक सुपरिटेंडेंट इंजीनियर कांतिलाल वर्मा के ठिकानों पर लोकायुक्त की छापेमारी की कार्रवाई की गई. छापे में अब तक करीब पांच करोड़ की संपत्ति का खुलासा हुआ है. कांतिलाल वर्मा के भोपाल में सिद्धार्थ एनक्लेव स्थित बंगले के अलावा छिंदवाड़ा और छतरपुर के नौगांव में पैतृक निवास पर भी छापे की कार्रवाई की गई. भोपाल स्थित बंगला कांतिलाल वर्मा की पत्नी पुष्पा वर्मा के नाम पर है, जिसकी अनुमानित कीमत 40 लाख बताई जा रही है. तीनों जगह अभी तक छापे की कार्रवाई में करीब पांच करोड़ की अनुपातहीन संपत्ति का खुलासा हुआ है. इंजीनियर वर्मा की पत्नी से भी लोकायुक्त की टीम पूछताछ कर रही है. कांतिलाल वर्मा छिंदवाड़ा में विद्युत विभाग के सुपरिटेंडेंट इंजीनियर के पद पर पदस्थ हैं.

Related Posts: