मुंबई, 10 जून. महाराष्ट्र में कोल्हापुर के महालक्ष्मी मंदिर के महाखजाने से सबकी आंखें चौंधिया रही हैं. करीब 900 साल पुराने इस मंदिर के खजाने की इन दिनों गिनती चल रही है. मंदिर के खजाने में सोने के बेशुमार गहने हैं.

मंदिर में पहले ही दिन सोने के ऐसे गहने निकले हैं, जिनकी बाजार में कीमत करोड़ों में है. मंदिर का खजाना इतना बड़ा है कि इसकी गिनती 17 जून तक जारी रहेगी. मंदिर में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं. पूरे मंदिर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं. खजाने की गिनती के बाद गहनों का बीमा करवाया जाएगा. मंदिर में कोंकण के राजाओं, चालुक्य राजाओं, आदिल शाह, शिवाजी और उनकी मां जीजाबाई तक ने चढ़ावा चढ़ाया है. इस मंदिर को 7वीं शताब्दी में चालुक्य राजाओं ने बनवाया था. यह मंदिर 27 हजार वर्गफुट में फैला है. मंदिर 51 शक्तिपीठों में शुमार है.

आदि शंकराचार्य ने महालक्ष्मी की मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की थी. इस मंदिर से अब तक सोने के बेशकीमती गहने मिले हैं. इनमें महालक्ष्मी का मुकुट, सोने के हार, चंद्रहार, श्रीयंत्र हार, सोने के घुंघरू, 49 मोहरों वाली स्वर्ण माला, तलवार और हीरों की कईं मालाएं शामिल हैं.

Related Posts: