मुख्यमंत्री द्वारा राज्य स्तरीय मैराथन एंड एडवेंचर स्पोट्रस का शुभारंभ, बेटे-बेटियों में भेदभाव सहन नहीं होगा : चौहान

कटनी की राजकुमारी प्रदेश की तेज धावक, साहसिक खेलों में नन्दा रैकवार ने मारी बाजी

भोपाल, 1 नवंबर. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि बेटे-बेटियों में भेद-भाव को सहन नहीं किया जाएगा. बेटियां बोझ नहीं वरदान हैं.

केवल बेटियों के माता-पिता की वृद्धावस्था में देखभाल के लिये सरकार योजना बना रही है. मुख्यमंत्री चौहान आज तात्या टोपे स्टेडियम में राज्य स्तरीय मैराथन एन्ड एडवेंचर स्पोर्टस शुभारंभ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे. इस मैराथन दौड़ में प्रदेश के सभी जिलों की दस-दस महिला खिलाडिय़ों ने भाग लिया. इस अवसर पर साहसिक खेलों का प्रदर्शन किया गया. कटनी की राजकुमारी पटेल प्रथम स्थान पर रहीं. उन्हें दस हजार रु. का चेक प्रदान किया गया. जबलपुर की अन्नपूर्णा स्वामी द्वितीय स्थान पर रही. उन्हें आठ हजार रु.,छिंदवाडा की मीना मडावी को छह हजार रु., नेहा सिंह ग्वालियर को चार हजार रु., अंजली तोमर ग्वालियर को दो हजार रु. का चेक प्रदान किया गया.

इसके अतिरिक्त पांच महिला खिलाडिय़ों को खेल विभाग की ओर से स्पोर्ट्स किट्स प्रदान की गई. उनमें ज्योति उईके सिवनी, क्षिप्रा मालवीय छिंदवाडा, वागडाले सिवनी, नशलीन बानो भोपाल तथा श्वेता लांडिया कटनी को दिया गया. इसके अलावा साहसिक खेलों में नंदा रैकवार रैपलिंग, स्लिदरिग, नमिता चंदेल रैपलिंग, स्लिदरिग, चेतना रैपलिंग, स्लिदरिग, अर्चना सिंह चौहान रैपलिंग, स्लिदरिग, सोनम नायक रैपलिंग, स्लिदरिग, विद्या रैकवार रैपलिंग, स्लिदरिग, सुषमा सरयम रैपलिंग, स्लिदरिग, सारिका रैपलिंग, नेहा कश्यप रैपलिंग, पूनतम महानी रैपलिंग, अदिती राठी स्लिदरिग.

आज मिनी मैराथन प्रतियोगिता टी.टी. नगर स्टेडियम से प्रारंभ हुई एवं बोर्ड आफिस चौराहे से वापस टी.टी. नगर स्टेडियम में समाप्त हुई. प्रतियोगिता के विजेता खिलाडिय़ों को क्रमश: नगद पुरस्कार भी दिये गये.  मुख्यमंत्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में बेटियों की शिक्षा-दीक्षा और विवाह आदि की सभी जिम्मेदारियों में सरकार सहयोग कर रही है. नि:शुल्क पुस्तकें, गणवेश और गांव के बाहर पढऩे जाने वाली कन्याओं को साइकिल मिलती हैं. इसके बाद भी बेटे-बेटियों में भेदभाव किया जाता है. लड़कियों की तुलना में लड़के अधिक जन्मते हैं. ग्रामीण से नगरीय क्षेत्रों में, अशिक्षित से शिक्षित और गरीब से अमीर परिवारों में यह अंतर और अधिक दिखाई देता है.

उन्होंने कहा कि समाज को बेटे-बेटी में अंतर की सोच में परिवर्तन करना होगा. यह सोच हमारी संस्कृति नहीं है. भारतीय संस्कृति में जहां नारी का सम्मान होता है वहीं पर देवताओं के बसने की बात कही है. धन, बुद्धि और बल के लिये प्रार्थना भी देवियों से की जाती है. मुख्यमंत्री चौहान ने प्रदेश स्थापना दिवस की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि प्रगति के पथ पर राज्य निरंतर प्रगति कर रहा है. बीमारू राज्य की श्रेणी से निकल कर विकासशील राज्यों की दौड़ में अग्रणी है. आज विकास दर दो अंकों में हो गई है. प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ी है. उन्होंने कहा कि इस प्रगति से संतुष्ट नहीं होना है. प्रत्येक नागरिक को संकल्पित होना होगा कि हम किसी से कम नहीं है. निरंतर प्रयास करते हुए प्रदेश और देश को आगे बढ़ाना है.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री चौहान ने राज्य स्तरीय मिनी मैराथन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया. खेल संचालक डॉ. शैलेन्द्र श्रीवास्तव ने अतिथियों का स्वागत किया.  कार्यक्रम के प्रारंभ में सुश्री वाणी राव ने वंदे मातरम् का गायन किया. इस अवसर पर बालिकाओं ने रैपलिंग और रबर क्रास जैसे साहसिक खेलों का प्रदर्शन किया. कार्यक्रम में राज्य लघु वनोपज राज्य सहकारी संघ अध्यक्ष विश्वास सारंग, विधायक ध्रुवनारायण सिंह, विधायक जितेन्द्र डागा, म.प्र. क्रीड़ा परिषद के पूर्व उपाध्यक्ष ओम यादव, सचिव खेल एवं युवा कल्याण अशोक शाह सहित खेल प्रेमी और खिलाड़ी उपस्थित थे.

Related Posts: