नयी दिल्ली, 7 जून. कांग्रेस ने गृहमंत्री पी. चिदम्बरम के इस्तीफे की भारतीय जनता पार्टी की मांग को सिरे से खारिज करते हुए आज कहा कि पहले उसके अध्यक्ष को ही पिछले 15 वर्षो में जुटायी गयी अपनी संपत्ति की जानकारी देनी चाहिए.

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने यहां संवाददाताओं से कहा कि श्री चिदम्बरम अदालत में चुनाव से संबंधित मामला नहीं हारे हैं. चुनाव से सबंधित जो मामला उन पर चल रहा है. उसका गृहमंत्री के तौर पर उनके कामकाज से कोई लेना देना नहीं है. उन्होंने कहा कि यह वास्तविकता है कि चुनाव आयोग ने उन्हें निर्वाचित घोषित किया है. भाजपा अध्यक्ष नितिन गडकरी द्वारा श्री चिदम्बरम के इस्तीफे की मांग किये जाने की ओर ध्यान दिलाये जाने पर श्री सिंह ने कहा कि श्री गडकरी दूसरो पर आरोप लगाने से पहले खुद यह बतायें कि 15 वर्ष पहले उनके पास कितनी संपत्ति थी और आज कितनी है.

मद्रास उच्च न्यायालय ने आज श्री चिदम्बरम की वह अपील आज ठुकरा दी जिसमें शिवगंगा लोकसभा सीट से उनके निर्वाचन को रद्द करने के लिए दायर याचिका निरस्त करने की मांग की गयी थी. श्री गडकरी ने कहा था कि न्यायालय के इस फैसले के मद्देनजर श्री चिदम्बरम को पद पर बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है. उन्होंने कहा कि भाजपा श्री चिदम्बरम के खिलाफ 2जी स्पेक्ट्रम घोटाले और एयरसेल-मैक्सिस सौदे में घोटाले से जुडे सौदे के सबूत भी संसद के भीतर और बाहर दे चुकी है लेकिन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह तथा कांग्रेस पार्टी उन्हें बचा रही है.

कांग्रेस ने दोहरायी जाट समुदाय को केंद्र में आरक्षण की मांग
नयी दिल्ली, 7 जून. कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश के जाट समुदाय को केंद्र की सेवाओं में आरक्षण देने की मांग के प्रति समर्थन दोहराया है.

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने आज यहां संवाददाताओं से कहा कि उनकी पार्टी उत्तर प्रदेश के जाट समुदाय को केंद्र की अन्य पिछड़ा वर्ग सूची में शामिल करने की पक्षधर है और इसके लिए प्रयासरत है. वह तथा राष्ट्रीय लोकदल के प्रमुख अजित सिंह इस मांग को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री पी चिदम्बरम से पहले मिल चुके हैं. श्री अजित सिंह ने कल गृह मंत्री से फिर भेंटकर जाट समुदाय के आरक्षण की यह मांग दोहरायी. श्री दिग्विजय सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय लोकदल प्रमुख ने उन्हें बताया है कि गृह मंत्री का रूख काफी सकारात्मक था और वह इस बारे में पिछडा वर्ग आयोग की रिपोर्ट की प्रतीक्षा कर रहे हैं. श्री सिंह ने कहा कि इस मामले में केंद्र के सकारात्मक कदम उठाने की बहुत संभावना है.

चिदंबरम के बचाव में सामने आई सरकार

नई दिल्ली,7 जून, नससे. गृहमंत्री पी चिदंबरम पर बढ़ते विपक्षी हमलों को देखते हुए सरकार और कांग्रेस उनके बचाव में खुलकर सामने आ गई है. कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने इस मामले पर चिदंबरम के इस्तीफे की मांग कर रही भाजपा को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि गृह मंत्री को अपना इस्तीफा छपवाकर रख लेना चाहिए. क्योंकि भाजपा हर दिन इसकी मांग करती रहती हैं.  भाजपा जो कहती है अगर उसे मान लिया जाए तो भगवान जाने गृह मंत्री कितनी बार इस्तीफा दे चुके होते.

श्री खुर्शीद ने कहा कि मीडिया खबरों से ऐसा लग रहा है जैसे यह आपराधिक मामला है जबकि दरअसल ऐसा नहीं है. उन्होंने कहा कि केवल चुनावी याचिका के जरिए ही इस बात की जांच हो सकती है कि चुनाव में कोई गड़बड़ी थी या चुनाव कानून का किसी तरह का उल्लंघन हुआ या नहीं. उन्होंने कहा कि चुनावी याचिका में मुद्दे उठाए जाते हैं. मुकदमा चलता है और फिर गवाही के बाद फैसला किया जाता है. जिसके बाद अपील की जाती है. इस फैसले पर उच्चतम न्यायालय तक में अपील की जा सकती है. अगर कोई फैसला आता है तो उसके खिलाफ  कोई भी अपील कर सकता है. उन्होंने कहा कि यह चुनावी याचिका का मामला है. जैसे दीवानी मामला होता है.

Related Posts: