विदिशा, 25 सितम्बर न.स.से. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान आज अपनी धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान के साथ कार द्वारा विदिशा आये। यहां उन्होंने बाढ़ वाले गणेश मंदिर में पहुंचकर हवन यज्ञ में पूर्णाहूति दी और भण्डारे में शामिल हुए। इससे पहले उन्होंने मंदिर परिसर में चल रहे सुन्दर काण्ड पाठ में भाग लिया। इस दौरान श्री चौहान ने भंडारे में भक्तजनों को परसाई भी की.

कार्यक्रम में गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता, महिला एवं बाल विकास राज्यमंत्री श्रीमती रंजना बघेल, मध्यप्रदेश गृह निर्माण मण्डल अध्यक्ष रामपाल सिंह राजपूत, म०प्र०लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष विश्वास सारंग, विधायक हरीसिंह रघुवंशी, सूर्यप्रकाश मीणा, हरीसिंह सप्रे, भोपाल नगर निगम की महापौर श्रीमती कृष्णा गौर, जनसम्पर्क आयुक्त राकेश श्रीवास्तव, इन्दौर नगर निगम के आयुक्त एवं विदिशा के पूर्व कलेक्टर योगेन्द्र शर्मा, कलेक्टर आनंद कुमार शर्मा, एसपी बीपी चन्द्रवंशी के अलावा विभिन्न विभागों के अधिकारी, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

बाढ़ वाले गणेश मंदिर में पत्रकारों से चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि क्षेत्र के विकास के लिए हर संभव प्रयास किए जायेंगे। स्थानीय युवाओं को रोजगार के अधिक से अधिक सृजन हो सकें इसके लिए शीघ्र ही भोपाल-बीना कॉरिडोर पर कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कृषि को फायदे का धंधा बनाने के लिए और अधिक कारगर प्रयास सुनिश्चित करने की बात कही। श्री चौहान ने कहा कि सुशासन के लिये ग्रामीण और शहरी दोनों में विकास करना है. सड़क-बिजली पानी की कमी न रहे, इसके लिये प्रयास किये जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि हिन्दी विश्वविद्यालय के लिये शासन द्वारा प्रयास किया जा रहा है तथा कैलाश मानसरोवर और श्रीलंका में भारतीय तीर्थों की यात्रा का भी सरकार आधा खर्च उठायेगी. मिड-डे मील में मिलने वाली शिकायतों पर कार्यवाही होगी. विदिशा में एनएच-86 की हालत को सुधारकर दर्शनीय बनाया जायेगा.

चौहान ने कहा कि केन्द्र सरकार ने गैस सिलेंडरों के दाम बढ़ाकर आम जनता की जिंदगी को संकट में डाल दिया है. केन्द्र सरकार के पास राज्य सरकारों की तुलनों में विशाल बजट होता है, इसलिये केन्द्र सरकार इस मामले को राज्य सरकार की जिम्मेदारी नहीं बता सकती. ऐसा वह इस मामले से आम जनता का ध्यान हटाने के लिये के लिये घुमा फिरा रही है.

बाढ़ वाले गणेश मंदिर पर भंडारे के दौरान आज कई घंटे तक पानी गिरने के कारण अव्यवस्था उत्पन्न हुई, लेकिन इस दौरान भी मुख्यमंत्री  ने वहां से मैदान नहीं छोड़ा और वे बरसते पानी में भी मंदिर परिसर में बने रहे. इस दौरान उन्होंने आम जनता के आवेदनों को लिया और लोगों की समस्यायें भी सुनीं. जबकि वह मंदिर परिसर में घूमघूमकर काफी देर तक लोगों से भी मिले. इस दौरान श्री चौहान वर्षा के पानी में तर हो गये. जबकि ड्यूटी पर तैनात कलेक्टर-एसपी व अन्य अधिकारियों के साथ ही अनेक जनप्रतिनिधि व आम जनता भी पानी में भीग गई.

कार्यक्रम के दौरान अचानक कई घंटे तक तेज वर्षा के कारण बाढ़ वाले गणेश मंदिर परिसर में व्यवस्थायें भंग हो गईं ऐसे में पास में ही स्थित कृष्णा गार्डन में आम लोगों को भंडारे के तहत भोजन कराने की आनन फानन में व्यवस्था की गई. इस दौरान वहां पर लोग खाने पर टूट पड़े, जबकि कई लोग लाइन में लगे रहे. मंदिर परिसर से गार्डन तक प्रशासनिक वाहनों सहित अन्य साधनों से भोजन पहुंचाया गया.

कार्यक्रम के दौरान अचानक तेज वर्षा होने पर लोगों ने पानी से बचने के लिये कुर्सियां अपने सिर पर रख लीं, जबकि कई लोग गणेश मंदिर में तो कई लोग वहां पर बनाई गई हवन वेदिका के टीनशेड में तो कई लोग पास में ही बनी गौशाला  में जाकर छिप गये. जबकि कई लोगों ने पास में ही बने कुछ सरकारी भवनों व गार्डन और ढावों में शरण ली. जबकि कई लोग अपने चार पहिया वाहनों में बैठ गये. लेकिन पानी के लगातार गिरने के कारण अधिकांश लोग पानी में तरबतर हो गये. ऐसे लोगों में जनप्रतिनिधि व अन्य लोगों के साथ ही बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी भी शामिल थे.

कार्यक्रम के दौरान अचानक तेज वर्षा के चलते आम लोगों के साथ ही पुलिसकर्मी भी यहां वहां हो लिये. ऐसे में बाढ़ वाले मंदिर के सामने  एनएच-86 पर जाम की स्थिति निर्मित होने पर पुलिस अधीक्षक वी.पी. चंद्रवंशी व्यवस्था बनाने के लिये स्वयं हाथ में छाता लेकर मैदान में कूदे और उन्होंने अपने फोर्स को बुलाकर व्यवस्था बनवाना शुरू की. इस दौरान श्री चंद्रवंशी ने बताया कि शमशाबाद भाजपा मंडल अध्यक्ष का वाहन रास्ते में खड़ा होने से जाम की स्थिति निर्मित हो रही है, इस पर पुलिसकर्मियों द्वारा उनके वाहन चालक को ढूंढ़कर वाहन को वहां से हटाया गया. तब कहीं जाकर  कुछ देर बाद जाम खुला. इस दौरान करीब एक घंटे तक वहां पर जाम की स्थिति निर्मित रही.

Related Posts: