भोपाल,17 मई,भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास मंत्री बाबूलाल गौर की अध्यक्षता में आज यहाँ बैठक में जर्मनी की जी.आई.जेड. कम्पनी के अधिकारियों के साथ यूनियन कार्बाइड के अपशिष्ठ पदार्थ के विनष्टीकरण के संबंध में चर्चा की गई.

बैठक में जल-संसाधन एवं पर्यावरण मंत्री जयंत मलैया, जी.आई.जेड. (जर्मनी) इंटरनल सर्विसेज के साउथ एशिया रीजनल डायरेक्टर हेन्स हरमन डूबे एवं चमन घांडा, प्रमुख सचिव भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास प्रवीर कृष्ण, प्रमुख सचिव आवास एवं पर्यावरण इकबाल सिंह बैंस, आयुक्त भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास एम.के. वार्ष्णेय, मध्यप्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड अध्यक्ष डॉ. एम.पी. शुक्ला उपस्थित थे. बैठक में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा दिए गए आदेशों के अनुरूप यूनियन कार्बाइड के अपशिष्ठ पदार्थ विनष्टीकरण के संबंध में जर्मनी की जी.आई.जेड. संस्था के प्रस्ताव पर विस्तार से चर्चा की गई. मंत्री गौर ने संस्था को अपशिष्ठ निवष्टीकरण के लिए तकनीकी प्रस्ताव समय-सीमा प्रस्तुत करने को कहा. उन्होंने बताया कि अपशिष्ठ विनष्टीकरण के संबंध में निर्णय केन्द्र सरकार लेगी.

Related Posts: