सभी ग्रामों में नलों से घर-घर उपलब्ध करवाया जायेगा पेयजल

भोपाल, 5 सितंबर. मध्यप्रदेश जल निगम के जरिये प्रदेश के सभी ग्रामों में पाइप लाइन बिछाकर नलों से शुद्ध पेयजल उपलब्ध करवाया जायेगा. मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कहा है कि यह प्राथमिकता का कार्य है. सतही जल का अधिकतम उपयोग कर घर-घर शुद्ध जल पहुँचाने का लक्ष्य प्राप्त करने के लिये तेजी से करे.

चौहान मध्यप्रदेश जल निगम के संचालक मण्डल की द्वितीय बैठक को संबोधित कर रहे थे. बैठक में नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री बाबूलाल गौर, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री गौरीशंकर बिसेन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री गोपाल भार्गव, मुख्य सचिव आर.परशुराम भी मौजूद थे. मुख्यमंत्री ने बैठक में कहा कि जिस उद्देश्य से मध्यप्रदेश जल निगम का गठन किया गया है उसी भावना से कार्य पूर्ण किए जाय. प्रदेश में कोई भी ऐसा गांव शेष नहीं रहे जहाँ नल से पानी की उपलब्धता नहीं हो. बैठक में इस महत्वाकांक्षी कार्य को दीर्घजीवी बनाने के लिये सामुदायिक सहभागिता को आवश्यक बताया गया. निगम के प्रबंध संचालक निशांत बरबड़े ने बताया कि गुजरात, पंजाब और कर्नाटक आदि राज्यों के पेयजल प्रबंधन में स्थानीय रहवासियों की प्रमुख भूमिका रहती है.

मध्यप्रदेश में ऐसी सहभागिता शून्य है. पेयजल प्रबंधन का सारा कार्य पंचायतें ही करती हैं. ऐसे में अनेक नल-जल योजनाएँ बंद हो जाती है. नल-जल योजना प्रारंभ होने के बाद संचालन एवं संधारण में आने वाले व्यय का तीन प्रतिशत सामुदायिक सहभागिता से व्यय किये जाने का प्रस्ताव बैठक में प्रस्तुत किया गया. संचालक मण्डल ने इसे पाँच प्रतिशत करने का निर्णय लिया. बैठक में बताया गया कि प्रदेश में पहली बार राज्य शासन ने सभी बंद नल-जल योजनाओं के विद्युत बिल भरने के लिये राशि उपलब्ध करवायी है. बैठक में बताया गया कि जल निगम द्वारा नदी-बाँध आदि सतही जल उपलब्धता तथा सर्वाधिक आवश्यकता के 27 गांव में परियोजनाएँ प्रस्तावित की गयीं हैं.

इसके लिये निविदा आमंत्रण का कार्य भी कर लिया गया है. बताया गया कि ग्रामीण क्षेत्रों में सतही स्रोतों के माध्यम से परिवार स्तर पर नल-जल कनेक्शन देने के साथ ही सीवरेज निष्पादन के लिये बाहरी वित्त पोषण से ढाई हजार करोड़ रूपये का प्रस्ताव संस्थागत वित्त संचालनालय को भेजा गया है. केन्द्र सरकार के प्रावधान अनुसार इसमें से 30 प्रतिशत राशि का वहन राज्य सरकार करेगी. बैठक में अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्रीमती अरूणा शर्मा, प्रमुख सचिव वित्त अजय नाथ, प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास एस.पी.एस. परिहार, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी सचिव एस.के. मिश्रा भी मौजूद थे.

zp8497586rq

Related Posts: