विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव पर अजय सिंह बोले

भोपाल, 28 नवंबर, नभासं. नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने राज्य विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव प्रस्तुत करते हुये आरोप लगाया कि म.प्र. में हो रहे भ्रष्टाचार के कारण मंत्री स्वर्णिम बन रहे हैं, मध्यप्रदेश नहीं.

सदन में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान समेत मंत्री उमाशंकर गुप्ता, लक्ष्मीकांत शर्मा, नागेंद्र सिंह, राजेंद्र शुक्ला आदि पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुये अजय सिंह ने राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया. उन्होंने कहा कि अवैध खनन या भ्रष्टाचार के मामले में जो कलेक्टर कार्यवाही करते हुये उन्हें हटा दिया जाता है. उन्होंने मांग उठाई कि भ्रष्ट मंत्रियों के लोकायुक्त में जो मामले लम्बित हैं, उन्हें स्वीकृति प्रदान की जाये. सिंह ने कहा कि यदि मुख्यमंत्री वास्तव में म.प्र. को स्वर्णिम बनाना चहते हैं तो भ्रष्ट मंत्रियों को हटाया जाना चाहिये. सिंह ने कहा कि म.प्र. में अधिकारियों के तबादलों की सूची परिक्रमा करते हुये रात 11 बजे मुख्य सचिव के पास पहुंचती है.

अजय सिंह ने गृह मंत्री उमाशंकर गुप्ता पर भाजपा महिला कार्यकर्ता से नौकरी दिलवाने के नाम पर तीन लाख रु. की रिश्वत लेने का आरोप लगाया. लोक निर्माण मंत्री नागेंद्र सिंह पर सड़क निर्माण में भ्रष्टाचार करने के आरोप लगाते हुये सिंह ने कहा कि एक सड़क निर्माण के 6 करोड़ का घोटाला हुआ है.  नागेंद्र सिंह के कार्यकाल में लोक निर्माण विभाग में 1500 अधिकारियों के तबादले किये गये. खनिज मंत्री राजेंद्र शुक्ला को कटघरे में खड़ा करते हुये सिंह ने कहा कि वे मंत्री रहते हुये एक फर्म में पार्टनर हैं, जबकि मंत्री किसी फर्म में पार्टनर नहीं रह सकता. उन्होंने मांग की कि राजेंद्र शुक्ल के लोगों को कौडिय़ों के दाम पर जो जमीन दी गई है, वह वापस ली जाये.

Related Posts: